अरुण जेटली ने विजय माल्या के दावे पर दी सफाई,कहा- 2014 के बाद उसे कभी मिलने का समय नहीं दिया

Arun Jaitley, Bjp, Black Money, Swiss Bank, Panama Papers,नई दिल्ली-केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने विजय माल्या के दावे को खारिज करते हुए कहा कि उन्होंने कभी उससे मुलाकात नहीं की थी। अरुण जेटली ने कहा कि यह बयान तथ्यात्मक रूप से गलत है और यह सच को जाहिर नहीं करता है। उन्होंने कहा कि 2014 से मैंने उसे मिलने का समय कभी नहीं दिया इसलिए मेरे साथ उसकी मुलाकात का कोई सवाल ही नहीं उठता है। बता दें कि बुधवार को लंदन में वेस्टमिन्स्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट के बाहर दावा किया कि उसने भारत छोड़ने से पहले मामले के निपटारे के लिए वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात की थी।अरुण जेटली ने माल्या के दावों को खारिज कर एक बयान जारी करते हुए कहा, ‘हालांकि वह राज्य सभा के सदस्य थे और कभी-कभी सदन में आते थे तो एक बार जब मैं सदन से अपने कमरे के लिए निकल रहा था तो उसने विशेषाधिकार का गलत उपयोग किया। वो मुझे पकड़ने के लिए कदम बढ़ाया और चलते हुए एक वाक्य कहा कि ‘मैं समझौते के लिए ऑफर कर रहा हूं।”

इससे पहले माल्या ने कहा कि वित्त मंत्री से मुलाकात कर देश छोड़ने से पहले बैंकों से सेटलमेंट का ऑफर दोहराया था। उन्होंने कहा कि बैंक ने मेरे सेटलमेंट पत्र पर आपत्ति दायर की थी।बता दें कि माल्या पर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) समेत देश के कुल 13 बैंकों का करीब 9,000 करोड़ रुपये बकाया है। वे भारतीय अदालतों और कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा विभिन्न मामलों के मुकदमे में पेश होने के समन के बावजूद लंदन में हैं।इसके अलावा माल्या के वकील ने दावा किया कि आईडीबीआई बैंक के अधिकारियों को कर्ज में डूबे किंगफिशर एयरलाइन्स के नुकसान के बारे में पूरी जानकारी थी। माल्या के वकील ने कहा कि आईडीबीआई बैंक के अधिकारियों के ईमेल दिखाते हैं कि विजय माल्या पर नुकसान को छुपाने के सरकार के आरोप आधारहीन है।

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने विजय माल्या के दावे को खारिज करते हुए कहा कि उन्होंने कभी उससे मुलाकाता नहीं की थी। अरुण जेटली ने कहा कि यह बयान तथ्यात्मक रूप से गलत है और यह सच को जाहिर नहीं करता है। उन्होंने कहा कि 2014 से मैंने उसे मिलने का समय कभी नहीं दिया इसलिए मेरे साथ उसकी मुलाकात का कोई सवाल ही नहीं उठता है। बता दें कि बुधवार को लंदन में वेस्टमिन्स्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट के बाहर दावा किया कि उसने भारत छोड़ने से पहले मामले के निपटारे के लिए वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात की थी।

अरुण जेटली ने माल्या के दावों को खारिज कर एक बयान जारी करते हुए कहा, ‘हालांकि वह राज्य सभा के सदस्य थे और कभी-कभी सदन में आते थे तो एक बार जब मैं सदन से अपने कमरे के लिए निकल रहा था तो उसने विशेषाधिकार का गलत उपयोग किया। वो मुझे पकड़ने के लिए कदम बढ़ाया और चलते हुए एक वाक्य कहा कि ‘मैं समझौते के लिए ऑफर कर रहा हूं।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *