जोगी पत्रवार्ता का बहिष्कार..मिन्नतों के बाद पिघले पत्रकार..विरोध के बीच कहा..बिलासपुर आएंगी मायावती

बिलासपुर—एक निजी प्रतिष्ठान में अमित जोगी और बसपा प्रदेश अध्यक्ष ओमप्रकाश वाजपेयी की प्रेस वार्ता का बहिष्कार किया। पत्रवार्ता महत्वपूर्ण थी लेकिन आयोजकों की लेट लतीफी और लापरवाही को ध्यान में रखते हुए पत्रकारों ने एक सुर में पत्रवार्ता में शामिल होने से मना कर दिया। पत्रकार वार्ता बहिष्कार की खबर सुनते ही जनता कांग्रेस नेता दौड़े भागे पत्रकारों को मनाने पहुंच गए। लेकिन पत्रकारों ने पीसी लेने से इंकार कर दिया। अंत में जोगी और ओमप्रकाश वाजपेयी को बाहर आकर बयान देना पड़ा। लेकिन सीटों में किस तरह बंटवारा हुआ…इसका खुलासा एक दिन बाद करने को कहा।

                     एक निजी हॉटल में बसपा और जोगी कांग्रेस के प्रमुख नेता का संयुक्त प्रेस वार्ता का बहिष्कार किया। जानकारी हो कि आज निजी प्रतिष्ठान में अमित जोगी और जनता कांग्रेस के बड़े नेताओं के साथ बसपा के प्रदेश अध्यक्ष और प्रमुख नेताओं के साथ संयुक्त प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया। प्रेसवार्ता का समय दोपहर तीन बजे निर्धारित किया गया। बावजूद इसके हाटल के अन्दर अमित जोगी अपने समर्थक नेताओं के साथ बसपा प्रदेश अध्यक्ष ओमप्रकाश वाजपेयी और समर्थकों से गहन मंत्रणा करते रह गए।

                 पत्रकारों के बार बार कहने के बाद भी अमित जोगी और बसपा नेता ओमप्रकाश पीसी लेने नहीं आए। देखते ही देखते समय एक घण्टा से अधिक बीत गया। इसके बाद पत्रकार अपना आपा खो बैठे। दो दर्जन से अधिक पत्रकारों ने एक साथ प्रेस हाल से निकलकर पत्रवार्ता में शामिल नहीं होने का एलान किया। हाटल से सभी पत्रकार बाहर आ गए।

                 पत्रकारों के विरोध की जानकारी मिलते ही अनिल टाह,धर्मजीत सिंह,सियाराम कौशिक,समीर अहमद,जीतू ठाकुर के अलावा बसपा प्रदेश प्रमुख पत्रकारों से निवेदन करते रहे। लेकिन पत्रकारों ने पीसी लेने से इंकार कर दिया। पत्रकारों ने कहा कि जब पीसी का समय तीन बजे था…तो एक घंटे बिलबं से क्यों। हमें और भी खबर करना होता है। नेताओं ने हाथ जोड़कर माफी मांगी। बावजूद इसके पत्रकारों का क्रोध कम नहीं हुआ। किसी तरह धर्मजीत,अनिल टाह और समीर के निवेदन पर पत्रकार बात करने को राजी तो हुए लेकिन पीसी में जाने से इंकार कर दिया।

पत्रकारों ने एक सुर में कहा कि अमित जोगी और ओमप्रकाश को यदि संयुक्त रूप से कुछ कहा है तो बाहर आकर कहें। सिर्फ एक सवाल से अधिक नहीं करेंगे। भाषण वाजी भी नहीं सुनेंगे। मौके पर आकर अजीत जोगी और ओमप्रकाश वाजपेयी ने कहा कि 13 अक्टूबर को मयावती बिलासपुर में विशाल सभा को संबोधित करेंगी। प्रदेश में जनता कांग्रेस के 55 और बसपा के 35 उम्मीदवार मैदान में उतरेंगे। ज्यादातर सवालों से जोगी और वाजपेयी बचते नजर आए। दोनों नेताओं ने कहा एक दिन बार सभी सीटों का सिलसिलेवार प्रत्याशी सहित नाम बताया जाएगा।

बावजूद इसके पत्रकारों का क्रोध शांत नहीं हुआ। नेताओं से कहा कि यदि पीसी लेना हो तो पहले सी तैयारी रखें..बंधुआ मजदूरों की तरह पत्रकारों को बांध कर रखना ठीक नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *