वरिष्ठ कांग्रेसियों से मिली सीएमडी में हार

बिलासपुर—- सीएमडी में एबीव्हीपी के हाथों मिली हार के बाद एनएसयूआई और यूथ कांग्रेस ने आज एक प्रेस कांफ्रेस कर वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं पर गुटबाजी और धोखाधड़ी का आरोप लगाया है। यूथ नेता महेन्द्र गंगोत्री ने बताया कि ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष अकबर खान ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता के इशारे पर अपने साथियों के साथ सीएमडी महाविद्यालय में छात्र संघ चुनाव के दौरान एबीव्हीपी का समर्थन और प्रचार किया है। गंगोत्री के अनुसार मतगणना के दौरान प्रबंधन ने सत्ता के दवाब में काम किया है। रिकाउन्टिग की मांग को इंकार करते हुए चुनाव अधिकारी ने मतदाता पत्र को गायब कर दिया है। अब हम इसकी शिकायत प्रदेश प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष से करेंगे। जरूरत पड़ने पर चुनाव के खिलाफ कानून का दरवाजा भी खटखटाएंगे।

                     आज एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान यूथ कांग्रेस नेता मंहन्द्र गंगोत्री ने पत्रकारों से बताया कि ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष अकबर खान ने एक बड़े नेता के इशारे पर सीएमडी कालेज में अधिकृत एनएसयूआई प्रत्याशी के खिलाफ एबीव्हीपी का प्रचार और समर्थन किया है। अकबर खान के खिलाफ हमारे पास पर्याप्त सबूत भी हैं। अकबर खान ने सीएमडी कालेज में मारपीट करवाया और उसी ने एनएसयूआई के खिलाफ थाने में शिकायत भी किया।

             यूथ कांग्रेस नेता महेन्द्र गंगोत्री ने एक सवाल के जवाब में बताया कि अकबर खान ने पहले भी एबीव्हीपी के खिलाफ प्रचार किया था। इस बार उसने अपने साथियों दिनेश सिरिया,अभय वरवा,संतोष गर्ग, सौमित्र कश्यप,अमित कश्यप को एबीव्हीपी के लिए काम करने को कहा था। जबकि ये सभी नाम एनएसयूआई और कांगेस के पदाधिकारियों में शामिल है। बावजूद इसके इन लोगों ने एबीव्हीपी का समर्थन किया। इनके खिलाफ हमारे पास पर्याप्त सबूत भी हैं।

                   सीएमडी कालेज एनएसयूआई अध्यक्ष प्रत्याशी रंजीत सिंह ने बताया कि मतगणना के दौरान प्रबंधन ने भारी लापरवाही की गयी है। हमें अन्दर मोबाइल ले जाने से मना किया गया। जबकि एबीव्हीपी के नेताओं को मोबाइल साथ मतगणना कक्ष में थे। मतगणना में जब एनएसयूआई आग चल रही थी। उसी दौरान चुनाव अधिकारी कमलेश जैन को किसी ने फोन किया। बातचीत करीब आधे से एक घंटे तक चली। इसके बाद उनके इशारे पर दस मिनट के लिए बिजली गुल कर दी गयी। जबकी इस दौरान एनएसयूआई की जीत ओर बढ़ रही थी। बिजली आने के बाद जब मतगणना का काम शुरू हुआ तो एबीव्हीपी का प्रत्याशी उम्मीद से ज्यादा वोट पाया।

                 रंजीत सिंह ने बताया कि शक होने पर हमने चुनाव अधिकारी कमलेश जैन से पुनरगणना की मांग की तो उन्होंने बताया कि रिकाउन्टिग नहीं होती। रंजीत ने बताया कि प्रबंधन के इशारे पर 25 वोट को रिजेक्ट कर दिया गया। जबकि दोनों प्रत्याशियों के कुल वोट रिजेक्ट वोट जोड़ने के बाद कम आते हैं। ऐसे में यह प्रश्न उठता है कि आखिर गायब वोट कहां गए हैं।

               प्रेस कांफ्रेंस में यूथ कांग्रेस जिला अध्यक्ष महेन्द्र गंगोत्री, एनएसयूआई राष्ट्रीय प्रतिनिधि अमितेष राय,जिला एनएसयूआई अध्यक्ष तवमीत छावड़ा विशेष रूप से मौजूद थे। उपस्थित यूथ नेताओं ने बताया कि एबीव्हीपी को हराने में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं और सत्ता पक्ष का हाथ है। यूथ नेताओं ने इसकी शिकायत प्रदेश अध्यक्ष से करने को कहा है। साथ ही चुनाव परिणाम के खिलाफ कोर्ट में जाने की बात कही है। छात्र नेताओं ने बताया कि प्रदेश के आदेश के बाद बिलासपुर बंद और धरना प्रदर्शन भी किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *