माता दर्शन के बाद कलेक्टर ने लगाया दरबार…श्रद्धालुओं को बताया मतदान का महत्व…कहा अधिकारों का करें उपयोग

बिलासपुर—जिला निर्वाचन अधिकारी पी.दयानन्द ने रतनपुर स्थित माता महामाया के दरबार में मत्था टेका। माता से आशीर्वाद लेने के बाद पी.दयानन्द श्रद्धालुओं के साथ मंदिर परिसर में ही मतदाताओं को जागरूक करने दरबार लगाया। जनता से संवाद कर कलेक्टर ने मतदान के महत्व पर प्रकाश डाला। कलेक्टर ने खुद मंदिर परिसर में एकत्रित श्रद्धालुओं के बीच होकर ईव्हीएम और वीवीपेट के बारे में जानकारी दी। उन्होने कहा कि सभी नागरिकों को अपने वोट की ताकत को पहचानने की जरूरत है। क्योंकि लोकतंत्र में एक-एक वोट की कीमत होती है।
                 जिला निर्वाचन अधिकारी ने माता के दरबार में मत्था टेकने के बाद मंदिर परिसर में जनता के बीच दरबार लगाया। इस दौरान कलेक्टर पी.दयानन्द ने एक एक श्रद्धालुओं को एकत्रित कर लोकतंत्र में मतदान की महत्ता पर प्रकाश डाला। पी.दयानन्द ने कहा प्रत्येक मतदाता को अपने अधिकारों को जानने और समझने का अधिकार है। इन्ही अधिकारो में एक अधिकार मतदान का भी होता है।
             लोकतंत्र में एक एक वोट की कीमत होती है। हम लम्बी लम्बी लाइनों को देखकर मतदान करने से बचते हैं। जबकि ऐसा कर हम अपने साथ छल करते हैं। अपने अधिकारों का गला घोटतें है। शासन ने मतदान के दिन छुट्टी का एलान किया है। इसलिए देश,प्रदेश और जिले का एक-एक नागरिक लोकतंत्र के सबसे बड़े पर्व में मतदान कर गर्व की अनुभूति करे।और राष्ट्र निर्माण में भागीदार बने।
                                     कलेक्टर ने मंदिर परिसर में एकत्रित सभी श्रद्धालुओं को खुद आगे बढ़कर वोट डालने के तरीकों के बारे में बताया। उन्होने माता दर्शन करने पहुंचे श्रद्धालुओं को ईवीएम और वीवीपेट मशीन के बारे में विस्तार से जानकारी दी। वीवीवेट का ट्रायल कर कलेक्टर ने कहा कि मनपसंद प्रत्याशी को वोट डालने के बाद मतदाता वीवीपेट से निकलने वाले स्लिप के जरिए तस्दीक कर सकता है कि डाला गया वोट सही जगह गया है या नहीं । स्लिप को पढ़ने में सात सेकेन्ड का समय मिलता है। यदि किसी प्रकार का संदेह होता है तो वह जिम्मेदार अधिकारी के सामने अपनी शिकायत को रख सकता है।
                   इस दौरान श्रद्धालुओं ने अपने बीच कलेक्टर को पाकर खुशी महसूस किया। कलेक्टर पी.दयानन्द ने भी लोगों को मतदान देने के लिए उत्साहित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *