मेरा बिलासपुर

अधिनियम के अनुसार हो निराकरण और पुनर्वास..कलेक्टर

jila striya satarkata avm monitiring samiti ki baithakबिलासपुर— कलेक्टर ने आज अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत् प्राप्त प्रकरणों को समय पर निराकरण सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया है। मंथनसभागार में आयोजित बैठक के दौरान कहा कि ताकि सभी को समय पर राहत राशि मिल सकें।  उन्होंने बैठक में  अधिनियम के अंतर्गत पंजीबद्ध प्रकरणों की संख्या के संबंध में जानकारी ली।
बैठक में सहायक आयुक्त आदिवासी विकास गायत्री नेताम ने बताया कि केन्द्र और राज्य सरकार के निर्देशानुसार प्रत्येक तीन माह में बैठक आहूत किया जाता है। जिले में अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत् कोई भी प्रकरण लंबित नहीं हैं।  कलेक्टर ने निर्देशित करते हुए कहा कि अधिनियम के तहत् जिस चैनल से जांच की जाती है उसी चैनल से राहत राशि उपलब्ध करायी जाये।

                                          कलेक्टर ने कहा कि प्रकरणों की जांच के समय निष्पक्षता से की जाए। इसमें किसी तरह की भेदभाव न हो। इसका विशेष ध्यान रखें।  बैठक में श्री एस.आर. गुप्ता अजाक, संतोष दुबे विधायक प्रतिनिधि मस्तूरी, श्रीमती रीता बरसैंया, पायल पाण्डेय, धनसिंह सोलंकी, गजेन्द्र साहू, न.नि. स्वास्थ्य अधिकारी श्री ओंकार शर्मा उपस्थित थे।
 पुनर्वास पर विशेष ध्यान
मंथन सभागार में आयोजित एक   जिला एवं खण्ड स्तरीय सर्वेंक्षण समिति की बैठक में कलेक्टर अन्बलगन पी. ने कहा कि वर्तमान समय में हाथ से मैला ढोने की प्रथा समाप्त हो चुकी है। ऐसे कर्मियों के पुनर्वास की आवश्यकता है। सर्वेंक्षण और पुनर्वास योजना का क्रियान्वयन सुनिश्चित करना है। उन्होंने बैठक में मीडिया सामग्री तैयार कर उसका स्थानीय भाषा में अनुवाद करने का निर्देश दिया है।

                       जिले में समस्त शहरों, कस्बो, गांवों के लिये हाथ से मैला ढोने वाले कर्मचारियों की अंतिम सूची का संग्रह और अनुमोदित कराने को कहा है। सर्वेंक्षण के बारे में स्थानीय समाचार पत्रों और अन्य प्रचार माध्यम से भी व्यापक प्रचार-प्रसार कराने का आदेश कलेक्टर ने  दिया। कलेक्टर ने विशेष जोर देते हुए कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार के निर्देशानुसार हाथ से मैला ढोने वाले कर्मियों की रोजगार का प्रतिषेध और उनका पुनर्वास अधिनियम का क्रियान्वयन ईमानदारी से किया जाए। इसमें किसी प्रकार की गड़बड़ी बर्दास्त नहीं होगी।
बैठक में सहायक आयुक्त आदिवासी विकास गायत्री नेताम,  एस.आर. गुप्ता अजाक, संतोष दुबे विधायक प्रतिनिधि मस्तूरी, रीता बरसैंया, पायल पाण्डेय, धनसिंह सोलंकी, गजेन्द्र साहू, न.नि. स्वास्थ्य अधिकारी ओंकार शर्मा शर्मा उपस्थित थे।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS