अधिवक्ता संघ ने एक समारोह में न्यायाधीशों को दी विदाई, शाल एवं श्रीफल से किया सम्मान

रामानुजगंज(पृथ्वीलाल केशरी )-न्यायपालिका सबसे ऊपर है इसकी गरिमा बनाए रखना हमारी नैतिक जिम्मेदारी है,प्रत्येक अधिकारी का यह दायित्व है कि वह सहजता के साथ सभी की परेशानियों को समझें और उसका सामाजिक ताने बाने में निराकरण करें।कोई भी व्यक्ति न्याय से वंचित ना हो यह बात जिला सत्र न्यायाधीश अशोक कुमार लुनिया ने कही। अधिवक्ता संघ द्वारा न्यायाधीशो में विनोद कुमार देवांगन अपर सत्र न्यायाधीश दंतेवाड़ा में प्रथम जिला एवंं सत्र,लीलाधर शाय यादव मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट कटघोरा में प्रथम अपर जिला एवंं सत्र न्यायधीश,आर.एन.पठारे न्यायधीश किशोर न्याय बोर्ड कोरबा ने श्रम न्यायालय में पदों उन्नति उपरांत स्थानांतरण हो जाने पर विदाई समारोह का आयोजन रखा गया था। इस दौरान उन्होंने कहा कि न्यायपालिका से सबको न्याय मिले इसका सबका ध्यान रखना चाहिए। वरिष्ठ अभिनेता अधिवक्ता आर.के.पटेल ने न्यायाधीश के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि न्यायाधीश का पद कांटों का ताज होता है। दोनों पक्षों को सुनकर युक्ति युक्त निर्णय देना कठिन काम होता है। सीजीवाल डॉटकॉम के व्हाट्सएप्प ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

अधिवक्ता विमलेश सिन्हा ने कहा कि अधिवक्ता एवं न्यायाधीश धुरी के दो पहिए हैं दोनों में सामंजस्य होने पर वातावरण स्वस्थ रहता है और स्वस्थ वातावरण में न्याय निराकरण सुगम हो जाता है। अधिवता अनूप तिवारी ने कहां की हमारे बीच उपस्थित न्यायाधीशों का वार एवं बेंच के प्रति हमेशा सहयोगात्मक वातावरण में कार्य करने का अवसर मिला जो स्मरणीय रहेगा। महिला अधिवक्ता श्रीमती किरण यादव ने कहा कि कार्य करने का अनुभव हम लोग के पास जितना भी हो जाए लेकिन न्यायाधीशों से मिले मार्गदर्शन के अनुसार हमेशा कुछ नया सीखने को मिलता ह.

हमारे बीच उपस्थित न्यायाधीशों का स्थानांतरण पदों उन्नति पर हुआ है इसके लिए बहुत ही खुशी की बात है। कार्यक्रम का सफल संचालन अधिवक्ता संघ के सचिव राकेश पांडे ने किया जबकि आभार अधिवक्ता संघ अध्यक्ष बिपिन बिहारी सिंह ने माना। इस अवसर पर ऋषि कुमार वर्मा अपर सत्र न्यायाधीश अधिवक्ताओं में शंभू गुप्ता अरविंद गुप्ता ओमप्रकाश केसरी रमेश गुप्ता अविनाश गुप्ता प्रदीप दुबे धर्मेंद्र सिंह संतोष पांडे अमरनाथ केसरी एवं प्रेस क्लब सचिव पृथ्वी लाल केसरी पत्रकार बैजनाथ केसरी सहित न्यायालयीन अधिकारी कर्मचारी आदि शामिल हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *