हमार छ्त्तीसगढ़

अभी तक आधे भी नहीं भर पाए कई बाँध

bandh==

रायपुर । चालू मौसम के दौरान अब तक छत्तीसगढ़ के अलग – अलग हिस्सों में अलग- अलग स्थिति है। जिससे कहीं पर सामान्य तो कहीं सामान्य से कम बारिश हुई है।जिसके चलते प्रदेश के सिंचाईं बाँधों में कहीं तीन चौथाई पानी भरा है तो कहीं अस्सी फीसदी हिस्सा खाली है। जानकारों का मानना है कि अभी सही ढंग से बारिश की शुरूआत ही नहीं हुई है ।आने वाले दिनों में अच्छी बारिश से बाँधों का जलस्तर भी ऊपर आएगा।

 

चालू बरसात मौसम में पिछले सप्ताह की तुलना में इस सप्ताह छत्तीसगढ़ के 42 प्रमुख सिंचाई जलाशय में से अधिकांश जलाशयों में जल भराव की स्थिति सुधरी है। इन जलाशयों में औसत रूप से 50 फीसदी भर गया है। जल संसाधन विभाग के स्टेट डाटा सेंटर द्वारा प्राप्त आंकड़ों के अनुसार सोमवार सुबह की स्थिति में मिनीमाता बांगो जलाशय 73.67 प्रतिशत,  गंगरेल बांध 20.69 प्रतिशत, तांदुला जलाशय 26.06 प्रतिशत, दूधावा जलाशय 9.61 प्रतिशत, सिकासेर जलाशय 32.82 प्रतिशत, खारंग जलाशय 25.07 प्रतिशत, सोंढूर जलाशय 41.24 प्रतिशत, मुरूम सिल्ली जलाशय 3.41 प्रतिशत, कोडार जलाशय 31.99 प्रतिशत, मनियारी जलाशय 76.30 प्रतिशत, खरखरा जलाशय 29.50 प्रतिशत, बोदली जलाशय 24.11 प्रतिशत, कोसारटेडा 79.37 प्रतिशत, परालकोट जलाशय 26.12 प्रतिशत, श्याम जलाशय 36.11 प्रतिशत, छीरपानी जलाशय 85.79 प्रतिशत, पिपरिया नाला जलाशय 45.86 प्रतिशत, बल्लार जलाशय 29.62 प्रतिशत, सूतियापाट जलाशय 79.96 प्रतिशत, मोगरा जलाशय 42.90 प्रतिशत, मरोदा जलाशय 46.21 प्रतिशत, सरोदा जलाशय 78.24 प्रतिशत, घोंघा जलाशय 17.28 प्रतिशत, मटिया मोती जलाशय 17.98 प्रतिशत, झुमका जलाशय 56.57 प्रतिशत, गेजटैंक जलाशय 45.52 प्रतिशत, खम्हारपाकुट जलाशय 17.96 प्रतिशत तथा केशवा जलाशय 24.49 प्रतिशत भरा है।

CM रमन 19 को रामानुजगंज मे,पुलिस अधीक्षक ने किया बॉर्डर एरिया का मुआयना

इसी प्रकार कर्रा नाला जलाशय 59.37 प्रतिशत, बांकी जलाशय 20.80 प्रतिशत, केदारनाला जलाशय 40.06 प्रतिशत, किनकारी नाला जलाशय 7.39 प्रतिशत, कनवारपुर जलाशय 1.45 प्रतिशत, बेहारखार जलाशय 69.66 प्रतिशत, खपरी जलाशय 53.60 प्रतिशत, कुम्हारी जलाशय 13.40 प्रतिशत, बरनाल जलाशय 42.96 प्रतिशत, पेण्ड्रावन जलाशय 22.52 प्रतिशत, रूसे जलाशय 41.18 प्रतिशत, पुटका नाला जलाशय 27.64 प्रतिशत, मयाना जलाशय 23.66 प्रतिशत तथा धारा जलाशय 12.40 प्रतिशत भर गया है।

 

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS