अमेरिका प्रवास से लौटे CM भूपेश, धान खरीदी पर कहा- इस साल हुई सर्वाधिक धान खरीदी,BJP पर साधा निशाना

नईदिल्ली।शुक्रवार को अपने 10 दिवसीय अमेरिका प्रवास से वापस दिल्ली लौटे सीएम भूपेश बघेल(Bhupesh Baghel) ने धान की खरीद को लेकर उठाए जा रहे सवालों पर कहा कि आज तक जितनी धान खरीदी हुई है, उससे ज्यादा इस साल सर्वाधिक धान खरीदी गई है। जितनी किसान बेचा करते थे, उससे ढाई लाख ज्यादा किसानों ने बेंची है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को कुछ नहीं मिल रहा है तो इसलिए हल्ला कर रही है। वहीं बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के द्वारा भूपेश बघेल सरकार पर दिए बयान पर सीएम ने कहा कि कलाश विजयवर्गीय हमेशा ऐसा बयान देते हैं जिससे चर्चा में बने रहें, उनके बयान पर टिप्पणी नहीं। सीजीवालडॉटकॉम(CG JOBS/NEWS) के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

अमेरिका दौरे को लेकर सीएम (Bhupesh Baghel) ने कहा कि 3 बड़े शहरों में हमारा कार्यक्रम रहा। कई उद्योगपतियों, व्यापारियों के साथ साथ विभिन्न संगठनों से भी मुलाकात हुई। इसके अलावा बोस्टन में अलग-अलग यूनिवर्सिटी(University) में जाने का मौका मिला। हमने वहां पर छत्तीसगढ़(Chhattisgarh) के बारे में जानकारी दी तो लोगों को आश्चर्य हुआ। छत्तीसगढ़ मिनरल स्टेट है, पौराणिक जगह के बारे में बताया, फूड प्रोसेसिंग,आईटी,एजुकेशन क्षेत्र में काम करने की बड़ी गुंजाइश है। सीएम ने कहा कि कुल मिलाकर यह दौरा अच्छा रहा है।

बताते चले कि खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में समर्थन मूल्य पर खरीदी के अंतिम दिन तक लगभग 83 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी हो चुकी है और देर रात तक धान खरीदी चलने की संभावना है। राज्य में गतवर्ष की तुलना में इस साल लगभग दो लाख 50 हजार से ज्यादा किसानों ने धान बेचा है। राज्य में धान खरीदी के लिए 85 लाख मीट्रिक टन का अनुमान लगाया गया है। प्रदेश में गत वर्ष समर्थन मूल्य पर लगभग 80 लाख मीट्रिक टन धान खरीदा गया था।

    प्रदेश में इस साल खरीदे गए धान का 14 हजार 500 करोड़ रूपए से ज्यादा का भुगतान किसानों को सीधे उनके बैंक खातों में किया जा चुका है। प्रदेश की समितियों में किसानों को चौथा टोकन भी जारी किया गया है और चौथा टोकन पर 3.5 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। गतवर्ष 2018-19 में कुल 15 लाख 71 हजार किसानों ने धान बेचा था, जबकि इस साल अब तक 18 लाख 45 हजार किसानों से धान खरीदी की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *