मेरा बिलासपुर

आत्मदाह काण्डः जांच अधिकारी का स्थानांतरण

IMG-20151102-WA0005बिलासपुर— बहुचर्चित राजेन्द्र तिवारी आत्मदाह के मामले की जांच को लगभग 18 दिन बीत चुके है । नतीजा अब तक सामने नही आया है । मामले की जांच कर रहे निर्मल तिग्गा ने बताया कि अभी प्रकरण की जांच पूरी नहीं हुआ है। कई लोगों का बयान लिया जाना बाकी है। लेकिन जल्द ही इसे पूरा कर जांच रिपोर्ट कलेक्टर को सौंप दिया जाएगा।

26 अक्टूबर को युवा कांग्रेस नेता राजेन्द्र तिवारी ने बिल्हा एसडीएम कार्यालय के सामने पेट्रोल डालकर आत्मदाह कर लिया था। राजेन्द्र तिवारी की गंभीर हालत में  रायपुर के एक निजी हास्पिटल मे दाखिल कराया गया। जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गयी । मामले मे 28 अक्टूबर को मरवाही विधायक अमित जोगी बिल्हा विधायक सियाराम कौशिक मस्तुरी विधायक दिलीप लहरिया ने कांग्रेस कर्याकर्ताओ के साथ रायपुर बिलासपुर मुख्यमार्ग को जाम कर अर्जुन सिसोदिया को गिरफ्तार करने की मांग की थी ।

मामले की गंभीरता को देखते हुए कलेक्टर ने मुख्यमंत्री के आदेश के बाद दण्डाधिकारी को जांच के आदेश दिये थे । 15 दिनो मे जांच रिपोर्ट आने की बात कही गयी थी। 18 दिन बीत जाने के बाद भी कोई नतीजा सामने नही आया है। राजेन्द्र तिवारी आत्मदाह प्रकरण की जांच कर रहे अपर कलेक्टर निर्मल तिग्गा ने बताया कि जांच में अभी कुछ वक्त और लगेगा। घटना से जुडे कुछ लोगो की गवाही बची हुई है।

अधिकारी का तबादला

तात्कालीन एसडीएम अर्जुन सिसोदिया के खिलाफ प्रशासन ने राजेन्द्र तिवारी आत्मदाह मामले की जांच के आदेश दिए है । जांच का जिम्मा अपर कलेक्टर निर्मल तिग्गा को सौंपी गई है। छत्तीसगढ मंत्रालय से एक आदेश के अनुसार अपर कलेक्टर निर्मल तिग्गा का तबादला बिलासपुर से कोण्डागांव कर दिया गया है। ऐसे में एक बार फिर जांच की कार्रवाई पर असर पड़ना स्वाभाविक है।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS