हमार छ्त्तीसगढ़

आपदा में भी राजनैतिक रोटी सेंक रही कांग्रेस

???????????????????????????????
           रायपुर। छत्तीसगढ़  में  अल्प  वर्षा के कारण  किसानों  के  माथे  पर  उभरी चिन्ता की  लकीरों  का स्थान आज राहत भरी मुस्कान ने ले लिया, जब छत्तीसगढ़  की डॉ. रमन सिंह की भाजपा सरकार  ने किसानों के लिए राहत भरे पैकेज की घोषणा कर दी। इधर भाजपा सरकार ने किसानों के लिए पैकेज की घोषणा की और उधर इन्द्र देवता नेे झमाझम बारिश करते हुए रमन सरकार की नेक नियत पर अपनी मुहर लगा दी। आज भाजपा कार्यालय एकात्म परिसर में भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष चन्द्रशेखर साहू ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए उपरोक्त बातें कही और साथ ही साथ यह विश्वास भी दिया कि किसानों के हित में और भी आवश्यक कदम उठाने से यह सरकार पीछे नहीं हटेगी ।
             चन्द्रशेखर साहू ने कांग्रेस की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि कांग्रेस ऐसी प्राकृतिक विपदा के समय भी राजनीतिक रोटियां सेंकने का काम कर रही है जो उनकी मानसिकता को दर्शाता है । कांग्रेस ने समाज के विभिन्न तबकों को केवल वोट बैंक की नजरों से देखा है और समय समय पर अपनी राजनीतिक महत्वकांक्षा की पूर्ति के लिए उनका इस्तेमाल भी किया है। वहीं भाजपा का दृष्टिकोण सदैव मानवीय और सर्व स्पर्शी रहा है। किसान हमारे लिए अन्नदाता हैं और कांग्रेस के लिए वे केवल मतदाता है। चन्द्रशेखर साहू ने कहा कि डॉ. रमन सिंह की भाजपा सरकार ने किसान हित में जिस तरह की सवेंदनशीलता का परिचय देते हुए किसान हितैषी निर्णय लिये हैं, उससे भारतीय जनता पार्टी संतुष्ट एवं प्रसन्न है तथा सभी जिला मुख्यालयों पर 19 सिंतम्बर को धन्यवाद दिवस के रूप में मनाने का निर्णय किया है। 
          चन्द्रशेखर साहू ने बताया कि इसी सिलसिले में युनाईटेड नेशन्स द्वारा अमेरिका के न्यूयार्क में अभी 23 सितम्बर को विश्व भर से विभिन्न देशों के प्रतिनिधी एकत्र हो कर जलवायु परिवर्तन के सम्बन्ध में चर्चा करेंगे जिसमें वे भी शामिल होंगे। जलवायु परिवर्तन के कारर्णो पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि भारत में मौसम में जो बदलाव आया है इसी के परिणाम स्वरूप राजस्थान के सूखा ग्रस्त इलाकों में अब बाढ़ की स्थिति निर्मित होती है और परम्परा गत रूप से जहॉ अच्छी बारिश होती आयी है वहां अब अकाल की स्थिति बन रही है। इस स्थिति का सामना किस तरह किया जाए, इस पर व्यापक चर्चा न्यूयार्क के सम्मेलन में होगी तथा उसके सकारात्मक परिणाम आऐंगे, ऐसी आशा है।

महिला शिक्षाकर्मियों की महापंचायत में रहेगी सक्रिय हिस्सेदारी..तैयारी में जुटा संगठन
Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS