बिलासपुर खेल अकादमी सेटअप तैयार–बोरा

IMG20160811144631बिलासपुर—खेल प्रतिभाओं के प्रोत्साहन के लिए सरकार लगातार काम कर रही है। जल्द ही बहुत कुछ खेल के मैदान से लेकर खिलाड़ियों के जीवन में परिवर्तन देखने को मिलेगा। रायपुर और बिलासपुर में खेल अकादमी खोला जाएगा। बिलासपुर खेल अकादमी के लिए सेटअप तैयार हो चुका है। एक महीने के भीतर कर्मचारियों की नियुक्ति हो जाएगी। आधारभूत संरचना का विकास किया जाएगा। जो भी कमियां होंगी उन्हें दूर कर लिया जाएगा। अमृत योजना को लेकर सरकार लगातार काम कर रही है। महिला एवं समाज कल्याण विभाग और दिव्यांगो के लिए बहुत कुछ काम किया जा रहा है। यह बातें महिला एवं बाल विकास मुख्य सचिव सोनमणि वोरा ने आज पत्रकारों से बातचीत के दौरान कही।

                              महिला एवं बाल विकास,खेल युवा विभाग के मुख्य सचिव सोनमणि बोरा आज बहतराई खेल स्टेडियम का निरीक्षण करने बिलासपुर पहुंचे। इसके पहले उन्होने पत्रकारों से खेल और समाज कल्याण विभाग की विभिन्न योजनाओं की जानकारी के साथ ही पत्रकारों के सवालों का जवाब दिया।

                               पत्रकारों से चर्चा करते हुए वोरा ने बताया कि बिलासपुर और रायपुर में दो खेल अकादमी स्थापित किया जाना है। सेटअप तैयार हो चुका है। बिलासपुर खेल अकादमी एक महीने के भीतर काम करना शुरू कर देगा। उप संचालक , सहायक संचालक,फिजियोथेरपी  समेत 26 कर्मचारियों को नियुक्त किया जाएगा।

                        बहतराई स्टेडियम की अधोसरंचना को लेकर वोरा ने बताया कि कमियों को लगातार दूर किया जा रहा है।  हॉकी स्टेडियम और एस्ट्रोटर्फ मैदान की कमी है वह भी जल्द ही तैयार हो जाएगा। शासन से 14 करोड़ की राशि स्वीकृत चुकी है। टेन्डर भी हो चुका है। इंडोर स्टेडियम एसी और ट्रैकन फील्ड के लिए भी राशि की कमी नहीं है। एक महीने के भीतर काम शुरू हो जाएगा।

                     सोनमणि वोरा ने बताया कि खेल और खिलाड़ियों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए सरकार ने पुरस्कार नियमों में भी संशोधन किया गया है। ओलम्पिक, गैर ओलम्पिक खिलाड़ियों को अवार्ड के बाद अब पैराम्पिक खिलाड़ियों को भी सम्मान किया जाएगा। महिलाओं के योगदान को भी विशेष तरजीह दी जाएगी।

                      वोरा ने बताया कि शासन और खेल विभाग ने नियमों में संशोधन करते हुए बाहरी राज्यों में खेलने वाले छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों को भी अवार्ड देने का फैसला किया है। वे खिलाड़ी जो से छत्तीसगढ़ के लिए खेला लेकिन रहते बाहर हो उन्हें उन्हें भी सम्मानित किया जाएगा। बाहर के वे खिलाड़ी जिन्होने खेल क्षेत्र मेंं छत्तीसगढ़ का मान बढ़ाया है उन्हें भी अवार्ड दिया जाएगा।

                        सोनमणि वोरा ने बताया कि अवार्ड के लिए खिलाड़ियों का चयन अंक सिस्टम से होगा। महिला एवं खेल मुख्य सचिव ने बताया कि शासन ने बस्तर और सरगुजा संभाग के खिलाड़ियों को युवा दर्शन योजना के तहत प्रदेश के बाहर भ्रमण कराने का फैसला किया है। वोरा ने बताया कि खेलो इंडिया कार्यक्रम के तहत खेल मंत्रालय ने राज्य स्तर से ब्लाक स्तर तक अधोसंरचना विकास,प्रतिभाओं की खोज और खेल प्रतिभाओं के सम्मान के लिए विशेष अभियान चलाने का फैसला किया है।

                           समाज कल्याण विभाग की विभिन्न योजनाओं की भी जानकारी सोनमणि वोरा ने पत्रकारों को दी। उन्होने बताया कि शासन ने निर्देश दिया है कि तीन दिसम्बर तक सार्वजनिक स्थानों पर दिव्यांगो के जीवन में आने वाली परेशानियों का सर्वेक्षण किया जाएगा। परेशानियों को चिन्हांकित कर उन्हें दूर किया जाएगा।

                 सोनमणि वोरा ने बताया कि स्कूल कालेज गर्ल्स हॉस्टल में रहने वाली छात्राओं की जरूरतों को शासन की विशेष योजना के तहत पूरा किया जाएगा। वोरा ने बताया कि बाल संप्रेक्षण गृह के नाबालिगों को अब ट्रायल के लिए कोर्ट कचहरी का चक्कर नहीं लगाना होगा। वीडियो कांफ्रेसिंग की व्यवस्था की जाएगी। उन्होने बताया कि स्कूल आंगनबाडी में पढ़ने वाले बच्चों को पठन पाठन को रोचक बनाने के लिए काम किया जा रहा है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *