एसपी का निर्देश..पोस्ट हैंडलर के खिलाफ FIR दर्ज..नाराज कांग्रेसियों ने कहा..सामने आयी RSS समर्थकों की साजिश

बिलासपुर–जिला कांग्रेस समेत प्रदेश के बड़े नेताओं ने आज बिलासपुर पुलिस कप्तान से मिलने के बाद सिविल लाइन थाना पहुंचकर आरएसएस समर्थित आशा क्षत्रिय पर कांग्रेस की छवि को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया है। कांग्रेसियों ने बताया कि आशा क्षत्रिय ने वेवसाइट पर उन्मादी पोस्ट डालकर कांग्रेस की छवि को नुकसान पहुंंचाने का प्रयास किया है। सिविल लाइन पुलिस ने पुलिस कप्तान के निर्देश और कांग्रेसियों की शिकायत पर आशा क्षत्रिय के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है। कांग्रेसियों ने पुलिस को बताया कि पोस्ट के माध्यम से कांग्रेस की गौरवशाली परंपरा को धक्का पहुंचा है।
छवि धूमिल करने की शिकायत
                                     आज दोपहर कांग्रेस प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव, जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी,शहर अध्यक्ष नरेन्द्र बोलर की अगुवाई में कांग्रेस नेताओं ने पुलिस कप्तान से मिलकर पोस्ट हैंडलर के खिलाफ एफआईआर दर्ज किए जाने की मांग की। इसके बाद कांग्रेसियों ने सिविल लाइन थाना का घेराव किया। पुलिस कप्तान के निर्देश के बाद लिखित शिकायत में कांग्रेस नेताओं ने सिविल लाइन थाना प्रभारी को बताया कि भाजपा और समर्थित लोग वेवसाइट में एक वीडियो पोस्ट के माध्यम से कांग्रेस की छवि को धूमिल करने का प्रयास किया है। लाठीचार्ज के समय का वीडियो डालकर बताया गया है कि कांग्रेस कार्यालय में 18 सितम्बर 2018 को पाकिस्तान जिन्दाबाद के नारे लगाए जा रहे थे। देश के खिलाफ नारेबाजी करने पर नीरज चन्द्राकर की अगुवाई में कांग्रेस नेताओं को कार्यालय के अन्दर घुसकर लाठियों से पीटा गया।
क्या है मामला
                बताते चलें कि विधानसभा चुनाव के ठीक दो महीने पहले 18 सितंबर 2018 को जिला और शहर कांग्रेस कमेटी ने संयुक्त रूप से प्रदर्शन करते हुए तात्कालीन स्थानीय विधायक के बंगले का घेराव किया। तात्कालीन मंत्री अमर अग्रवाल के घर में कचरा फेंककर कांग्रेसियों ने व्यवस्था के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। इसके बाद सभी कांग्रेसी कार्यालय लौट गए । इस दौरान कांग्रेसियों को पुलिस ने रोकने का भी प्रयास किया। लेकिन सफलता नहीं मिली।
                                     कुछ घंटो बाद तत्कालीन एडिश्नल एसपी नीरज चंद्राकर ने कांग्रेस भवन में घुसकर बर्बरतापूर्ण लाठी चार्ज कर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को पीटा। लाठीचार्ज की घटना में अटल श्रीवास्तव, विष्णु यादव,विक्की आहुजा समेत दर्जनों नेेताओं को गंभीर चोट पहुंची। जिनका इलाज शहर के विभिन्न अस्पतालों में किया गया। घटना की गंभीरता को देखते हुए भूपेश बघेल रातो रात रायपुर से बिलासपुर पहुंंच गए। भूपेश बघेल के प्रयास से थानों में बंद कांग्रेसियों को छुड़ाया गया।
 चल रही जांच
              बताते चलें कि लाठीचार्ज मामले को लेकर इस समय मजिस्ट्रेट जांच चल रही है। हाल फिलहाल जांच का दायरा पांच बिन्दु से बढ़ाकर सात बिन्दु कर दिया गया है। सिविल लाइन पहुंचकर कांग्रेस नेता अटल श्रीवास्तव,विजय और नरेन्द्र बोलर ने जानकारी दी कि आरएसएस से जुड़े फेसबुक पेज पर लाठीचार्ज का वीडियो डालकर लाठीचार्ज की घटना को सही बताया जा रहा है। पोस्ट में लिखा गया है कि कांग्रेस कार्यालय में कांग्रेसी नेता देश विरोधी गतिविधियों के साथ पाकिस्तान जिन्दाबाद के नारे लगा रहे थे। इसके बाद एडिश्नल एसपी नीरज चन्द्राकर ने दल बल के साथ लाठीचार्ज की घटना को अंजाम दिया। पोस्ट में यह भी लिखा गया है कि पाकिस्तानी समर्थकों के खिलाफ लाठीचार्ज कर पुलिस ने देशभक्ति की मिसाल कायम की है।
पुलिस से शिकायत के साथ दिया स्क्रीन शॉट
                                 कांग्रेसियों ने सिविल लाइन पुलिस को पोस्ट की स्क्रीन शॉट और फोटोकापी देते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी का देश की आजादी में अहम योगदान है। हमारे नेताओं ने आजादी के लिए खुशी खुशी फांसी को चूमा है। लेकिन पोस्ट में कांग्रेस पार्टी और कार्यकर्ताओं के खिलाफ असंसदीय शब्दों का प्रयोग कर देश में उन्माद पैदा करने की कोशिश की गयी है। पोस्ट में यह भी लिखा गया है कि धुलाई वाला वीडियो ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। जो भी भारतीय पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाएगा उसकी इसी तरह धुलाई होगी।”
पुलिस कप्तान का आदेश
            इसके पहले अटल, विजय और नरेन्द्र ने पुलिस कप्तान से मिलकर झूठी पोस्ट की जानकारी दी। नेताओं ने बताया कि झूठी पोस्ट के वायरल होने से कांग्रेसियों में आक्रोश है। पुलिस कप्तान अभिषेक मीणा ने तत्काल सिविल लाइन थाना प्रभारी को एफआईआर दर्ज करने को कहा।
                      पुलिस कप्तान के निर्देश के बाद कांग्रेस प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव, जिलाध्यक्ष विजय केशरवानी, शहर अध्यक्ष नरेंद्र बोलर, किसान कांग्रेस अध्यक्ष सुनील शुक्ला, जिला प्रवक्ता मोहम्मद जस्सास, अजय सिंह, रमेश कौशिक, स्वप्निल शुक्ल, सिद्धांशु मिश्र, शिवा नायडू, जावेद मेमन, शेख निज़ामुद्दीन सहित एक प्रतिनिधि मंडल की शिकायत पर सिविल लाइन थाना में एफआईआर दर्ज किया गयाा। शिकायत को थाना प्रभारी ने सायबर सेल को हवाले कर जांच का आदेश दिया
 आरएसएस की साजिश
                    पत्रकारों से चर्चा करते हुए अटल श्रीवास्तव ने कहा कि ‘कांग्रेस की छवि को धूमिल करने का सुनियोजित साजिश है। पोस्ट के पीछ मास्टर माइंड आरएसएस के लोग शामिल हैं। ऐसे लोगों को किसी भी सूरत में छोड़ा नहीं जाना चाहिए। जिलाध्यक्ष विजय केशरवानी ने कहा कि ‘यह शर्मनाक कृत्य भाजपा और आरएसएस के फेसबुक पेज पर चल रहा है। देशहित से जुड़े मुद्दे पर ऐसी शर्मनाक घटना निंदनीय है। मामले की जानकारी जिला कांग्रेस प्रवक्ता मोहम्मद जस्सास ने दी।
जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) अध्यक्ष अमित जोगी ने मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल को पत्र लिखकर राज्य शासन की भर्ती-नीति में तीन संशोधन करने की माँग करी:
– (1) छत्तीसगढ़ शासन के विभिन्न विभागों द्वारा की जा रही व्यापक भर्तियों में “छत्तीसगढ़ का निवासी होना अनिवार्य नहीं है” शर्त को तत्काल निरस्त करें ताकि आउट्सॉर्सिंग के नासूर को जड़ रोका जा सके।
– (2) ये शर्त रखी जाए कि “समस्त भर्तियों के लिए छत्तीसगढ़ी भाषा अथवा प्रदेश की प्रचलित बोलियों और संस्कृति का सामान्य ज्ञान होना अनिवार्य रहना चाहिए” ताकि प्रदेश के निवासियों को राजस्थान, उड़ीसा, महाराष्ट्र इत्यादि अन्य राज्यों की तर्ज़ पर प्राथमिकता मिल सके।
– (3) भर्तियों का विकेंद्रीकरण करके उसका अधिकार त्रीस्तरीय ज़िला पंचायत और स्थानीय सरकार के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों को दे देना चाहिए।
💥अमित जोगी ने ये भी जानकारी दी कि आउट्सॉर्सिंग बंद करने और स्थानीय लोगों का भविष्य सुरक्षित करने के उपरोक्त आशय का “ग़ैर-शासकीय संकल्प” इसी सत्र में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) और बसपा गठबंधन के 7 विधायकों द्वारा विधान सभा में जल्द प्रस्तुत किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *