मेरा बिलासपुर

कर्मचारियों ने बनाया ए ग्रेड का बैंक–देवेन्द्र

aropiबिलासपुर— जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के चैयरमैन देवेन्द्र पाण्डेय की विदाई समारोह में आज कर्मचारी काफी भावक नजर आए। इस दौरान आयोजित एक कार्यक्रम में पाण्डेय ने बताया कि जिला सहकारी बैंक को ऊचाईयों तक पहुंचाने का काम केवल कर्मचारियों ने किया है। अकेले देवेन्द्र पाण्डेय कुछ नहीं कर सकता है। उन्होंने बतााया कि बैंक के कर्मचारियों,हितग्राहियों और किसानों ने बैंक को बुलंदियों तक पहुंचाया है।

                           विदाई समारोह के बाद मीडिया से चर्चा करते हुए देवेन्द्र पाण्डेय ने बताया कि जब मैं बैंक में पहली बार चैयरमेन बनकर आया था तो देखा कि यहां के कर्मचारी बहुत प्रतिभाशाली और मेहनती हैं। लेकिन अनुशासन की बहुत कमी है। मेरी पहली प्राथमिकता थी कि बैंक  को अनुशासित करते हुए पिछले 58 करोड़ रूपए के कर्ज को पटाना है। इस मुहिम में यहां के कर्मचारियों ने मेरा साथ दिया। आज बैंक 9 करोड़ रूपए के फायदे में है। हमने अपने कर्मचारियों के सहयोग से ही कोर बैंकिंग की सुविधा को ना केवल स्थापित किया बल्कि इसका विस्तार भी किया। देवेन्द्र पाण्डेय ने बताया कि मुझ पर आरोप भी लगे लेकिन मैने कर्चारियों की मदद से किसानों के हित को ध्यान में रखते हुए काम किया और आज  बैंक को एक नया मकाम मिला।

                                                  पाण्डेय ने बताया कि जब मैने यहां पदभार ग्रहण किया तो बैंक काफी नाजुक दौर से गुजर रहा था। मैने देखा कि बैंक पिछले सौ सालों में मात्र 86 करोड़़ का व्यवसाय किया है। हमने इस दिशा जमकर काम किया देखते ही देखते बैंक अपने 58 करोड़ का ना केवल कर्ज चुकाया बल्कि फायदे में लाकर खड़ा कर दिया। पाण्डेय ने बताया कि इस दौरान हमने अपने कर्मचारियों की ना केवल सुविधाओं को ध्यान में रखा बल्कि उनसे जमकर काम भी लिया। आज नतीजा यह है कि पूरा बैंक एक परिवार की तरह काम करते हुए प्रगति का नया कीर्तिमान रच दिया।

JIO यूजर्स के लिए खुशखबरी,अब 15 दिसंबर तक मिलेगा इस ऑफर का फायदा

                         पाण्डेय ने बताया कि डॉ.रमन सिंह की दिशा निर्देश पर जिला सहकारी बैंक ने किसानों और उनके हितों को सर्वोपरि रखा। किसानों का विश्वास ही बैंक की पूंजी है। देवेन्द्र ने बताया कि कर्मचारियों के मेहनत का ही नतीजा है कि आज हमारे पास एटीएम की सुविधा हो गयी है। मुझे दुख है कि मै सभी 53 जगह एटीएम नहीं लगा सका।लेकिन मुझे विश्वास है कि जल्द ही सब बैंकों में किसानों को एटीएम की सुविधा मिलने लगेगी।

                         बैंक चेयरमेन ने बताया कि मै नहीं जानता कि आगे कौन अध्यक्ष होगा लेकिन मुझे बहुत खुशी है कि अपने कार्यकाल के अंतिम समय तक बैंक को सी ग्रेड से ए ग्रेड का बना दिया है। लोगों को आश्चर्य होता है कि कैसे घाटे का बैंक ए ग्रेड का बन गया। लेकिन बताना चाहुंगा कि जिला सहकारी बैंक को ए ग्रेड का तमगा नाबार्ड और आरसीसी की टीम ने दी है।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS