कलेक्टर के खिलाफ इंजीनियरों ने खोला मोर्चा…सचिव को लिखा पत्र…कहा आईएएस को हटाना होगा…अन्यथा करेंगे उग्र प्रदर्शन

बिलासपुर— छत्तीसगढ़ अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन बिलासपुर और छत्तीसगढ़ डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसिएशन ने संयुक्त रूप से कलेक्टर कार्यालय के सामने कांकेर कलेक्टर के खिलाफ नारेबजी। इंजीनियरों ने नारेबाजी के दौरान कहा कि कलेक्टर कांकेर के.एल चौहान और संयुक्त कलेक्टर सीए मारकण्डेय के खिलाफ यदि सख्त कदम नही उठाया गया तो पूरे प्रदेश में धरना प्रदर्शन किया जाएगा। कर्मचारियों ने कहा कि अभद्र भाषा और गाली गलौच करने वाले कलेक्टर को तत्काल प्रभाव से जिला से अन्यत्र स्थानांतरित किया जाए।

                                छत्तीसगढ़ अधिकारी कर्मचारी फेडरेशन बिलासपुर और छत्तीसगढ़ डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसिएशन ने कलेक्टर कांकेर और अनुविभागीय अधिकारी के खिलाफ शासन से अनुशासनात्मक कार्रवाई की मांग की है। इंजीनियर कर्मचारी संगठन ने बताया कि 30 सितम्बर को कांकेर में गढिया महोत्सव का आयोजन किया गया। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम किया। व्यवस्था या अन्य किन्ही बातों को लेकर कलेक्टर के.एल.चौहान ने मुख्यकार्यपालन अभियंता डी.राम को सबके सामने अश्लील गालियां दी। नौकरी से हाथ धोने की भी धमकी दी। इतना ही नहीं कलेक्टर कांकेर ने तत्काल अनुविभागीय अधिकारी सी.एल.मारकण्डेय को बुलाकर कार्यपालन अभियंता को जेल डालने को कहा।

                         कलेक्टर आदेश के बाद अनुविभागीय अधिकारी ने भी कार्यपालन अभियन्ता के साथ जाति सूचक गाली गलौच की। साथ ही अभियन्ता के मातहात को धमकी दी गयी यदि मुंह खोला तो डी.राम की तरह जेल भेज दिया जाएगा। अनुविभागीय अधिकारी के आदेश पर थाना प्रभारी ने डी.राम को गिरफ्तार कर करीब 6 घण्टे तक बिना वजह थाना में बैठाकर रखा।

              बिलासपुर के सभी इंजीनियरों ने कहा कि कलेक्टर के खिलाफ शासन को सख्त कदम उठाने की जरूरत है। अनुशासनात्मक कार्रवाई के अलावा कलेक्टर को तत्काल प्रभाव से अन्यत्र जिला या मंत्रालय स्थानांतरित किया जाए। इसके अलावा अनुविभागीय अधिकारी के खिलाफ भी कार्रवाई हो। इंजीनियरों ने कहा कि सार्वजनिक स्थान पर क्लास वन अधिकारी के साथ गाली गलौच करना प्रशासनिक अधिकारियों को शोभा नहीं देता है। यद्पि इस प्रकार का व्यवहार हमेशा प्रशासनिक अधिकारियों की तरफ से होता रहा है। जिला पंचायत में भी बैठक के दौरान आईएएस सीईओ कर्मचारियों से गाली गलौच करते हैं। जिसके कारण अधिकारियों का ना केवल मनोबल टूटता है बल्की मानसिक पीड़ा भी होती है।

                                      जिला प्रशासन को मुख्य सचिव के नाम लिखित शिकायत कर इंजीनियरों ने कहा कि यदि समय रहते कलेक्टर कांंकेर और अनुविभागीय अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती है तो प्रदेश स्तर पर उग्र प्रदर्शन किया जाएगा। इंजीनियरों ने कहा कि कलेक्टर और अनुविभागीय अधिकारी जांच जरूरी है।

               यदि कलेक्टर और अनुविभागीय अधिकारी के खिलाफ 9 अक्टूबर तक कार्रवाई नही होती है तो 10 अक्टूबर को प्रदेश के सभी जिलों में उग्र प्रदर्शन किया जाएगा। इसके अलावा मुख्यमंत्री से शिकायत कर कठोर कार्रवाई की मांग की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *