कलेक्टर खुद खोज रहे मुंगेली मे गुम हुआ गौरव पथ

There is no slider selected or the slider was deleted.


IMG-20170816-WA0005मुंगेली(आकाशदत्त मिश्रा)।
प्रदेश के मुखिया रमन सिंह ने अपने पिटारे से जब नौ रत्न जिले के रूप में निकाले थे तब उनमे से एक रत्न मुंगेली भी था , लेकिन किसी को क्या पता था कि गिद्ध की नज़र रखने वाले भृष्टाचारियो कि फौज मुंगेली पर भी धावा बोलेगी , और धीरे धीरे अपने पैरों पर खड़ा होने का प्रयास कर रहे नवजात जिले को अपंग कर डालेगी।हम बात कर रहे है मुंगेली नगर के जिला बनने के बाद के विकास की, प्रदेश के सभी जिलों में राजधानी के तर्ज पर गौरव पथ बनने थे लेकिन राजधानी जैसा गौरवपथ दूसरा कही बन ना सका, बिलासपुर गौरव पथ की स्थिति से सभी वाकिफ है उसी के साथ मुंगेली गौरव पथ के निर्माण में इतना जबरदस्त घोटाला और भ्रष्टाचार किया गया कि वर्तमान कलेक्टर नीलम देव इक्का को कहना पड़ा कि मैं खुद मुंगेली में गौरव पथ तलाश कर रहा हूँ।इस मामले में कुछ पहलू इतने चौकाने वाले है कि मौके पर सड़क देखने से कोई बच्चा भी बता देगा कि यहां 100% गड़बड़ी की गई है।

                                           IMG-20170816-WA0007सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक तत्कालीन पद पर बैठे प्रशासनिक अधिकारियों और ठेकेदारों जिनमे से एक स्वयं को राज्य सरकार के मंत्री का सगा भतीजा बताते आये है इनके द्वारा संयुक्त रूप से गौरव पथ के निर्माण में भयँकर भ्रष्टाचार किया गया ठेकेदार के गड़बड़झाले और विरोध को थामने और सरंक्षण प्रदान करने नगर के कुछ युवा नेता कार्यकर्ता भी इस दौरान सक्रिय रहे। लेकिन जब अधिकारियों को अहसास हुआ किभ्रष्टाचार का पानी नाक से ऊपर हो रहा तब अपनी औपचारिकता पूरी करने के लिए ठेकेदार के कुछ भुगतान को रोक दिया गया , और लोगो ने दूरियां बना ली , लेकिन इन सबमे असल नुकसान यदि किसी का हुआ तो वो है मुंगेली की आमजनता जिसे अब वर्तमान जिलाधीश ने महसूस किया है।

                                         IMG-20170816-WA0003इस खबर के माध्यम से हम यह बताना चाहते है कि किस तरह से राज्य सरकार की योजनाओं को आमजन तक पहुचाने की बजाय उसे दफ्तरों की फाइलों में उलझा कर इस तरह से जमीनी हकीकत में उतारा जाता कि वो अपनी असल सूरत गवां बैठते है , ऐसे में राज्य शासन की छवि को सीधे चोट करने वाले कार्यो का खामियाजा फिजूल में उन जनप्रतिनिधियों को जाने अनजाने में भुगतना पड़ता है जिन्होंने इस भ्रष्टाचार को चिमटे से भी नही छुआ है। बहरहाल मुंगेली कलेक्टर ने इस बात से इशारों में काफी कुछ कह दिया कि ” “मैँ खुद गौरव पथ को तलाश रहा मुंगेली में”

Comments

  1. By Arun. Kumar

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *