मेरा बिलासपुर

कहीं मिस्ट्री ना बन जाए गौरांग की मौत

IMG-20160722-WA0052  IMG-20160722-WA0055बिलासपुर—शहर के रामा मैग्नेटो मॉल के टीडीएस बार मे पार्टी मना रहे बिल्डर श्रीराम चंपतराव बोबड़े के इकलौते बेटे गौरांग बोबड़े की देर रात संदिग्ध हालत में मौत हो गयी है। मृतक के चेहरे, हाथ, सिर और शरीर के अन्य हिस्सों में गंभीर चोट के निशान हैं। मामले में हत्या की आंशका जतायी जा रही है। पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच में जुटी हुई है।

                  जानकारी के अनुसार मृतक गौरांग बोबड़े के दोस्त, मॉल के कर्मचारी बॉर बाउंसर समेत एक दर्जन से अधिक संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया गया है। देर शाम तक बारी बारी से सभी से पूछताछ की जा रही है । पुलिस ने मृतक के साथ पार्टी मे शामिल रईसजादों को हिरासत में लिया है। प्रारंभिक पूछताछ मे संदेही को सीढ़ी से गिरने के कारण मौत होना बताया जा रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस पर लगातार दबाव बनाने का प्रयास भी किया जा रहा है।

                      मिली जानकारी के अनुसार बिल्डर श्रीराम बोबड़े का इकलौता बेटा गौरांग बोबड़े पुराने बस स्टैण्ड के पास सप्तश्रृंगी अपार्टमेन्ट से अपने दोस्तों के साथ गुरुवार की रात 9 बजे परिजनों को मैग्नेटो मॉल स्थित टीडीएस बार मे पार्टी की जानकारी देकर गया था।  मृतक के  कैलिफोर्निया से आया दोस्त कबीर अरोरा ने मैग्नेटो मॉल के अंदर टीजीएस बॉर में पार्टी रखी थी। गौरांग को रात 9 बजे उसका दोस्त अर्जुन घर पर बुलाने आया था।

                       सीसीटीवी के अनुसार रात करीब तीन बजे तक सभी दोस्त बॉर में बैठे हुए थे। थोड़ी देर बाद गौरांग को बॉर के बाउंसर, मॉल के कर्मचारी और उसके दोस्त जिला अस्पताल गंभीर हालत में लेकर पहुंचे। डॉक्टरों की टीम ने उसे मृत घोषित कर दिया। डॉक्टर से मौत की जानकारी लगते ही गौरांग के दोस्त और बॉउन्सर जिला अस्पताल  से फरार हो गए। जिला अस्पताल से मेमो आने के बाद पुलिस को घटना की जानकारी मिली। पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। दोपहर बाद मृतक का पोस्टमार्टम किया गया है। अभी तक मौत के कारणों की जानकारी नहीं मिल पायी है।

मुंगेली में भी खुल गई शराब दुकान, मदिरा प्रेमियों की लम्बी कतार

हिरासत में संदिग्ध IMG-20160722-WA0056

                पुलिस ने एक दर्जन से अधिक संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया है। बताया जा रहा है कि हिरासत में लिए गए लोगों मेंं नगर के कई धन्नासेठों के लड़के शामिल हैं। इनमें से सभी लोग टीडीएस बार में घंटों बैठकर मौज मस्ती किया है। करण किंशुक अरिहंत समेत मॉल के कर्मचारी और बाउंसर भी इसमें शामिल हैं। हाइप्रोफाइल मामला होने के कारण पुलिस देर रात से ही मामले की पड़ताल में जुट गयी है। संदिग्ध युवकों से पूछताछ की जा रही है। पुलिस ने घटना की वास्तविकता जानने मेग्नेटो मॉल मे लगे 4 सीसीटीवी कैमरा और डीवीआर को जप्त कर लिया है।

                       मामला हाईप्रोफाइल होने के कारण पुलिस की जांच को लेकर मृतक के परिजन आशंकित है। थाना परिसर मे रोते बिलखते मृतक के पिता ने कहा कि उनके बेटे गौरांग की हत्या हुई है। रसूखवाले लोग उसे घटना बताने का प्रयास करते हुए जांच को प्रभावित कर रहे हैं।

                                            सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार टीडीएस बार से निकलते समय फुटेज मेंं गौरांग सही सलामत देखा गया है। मॉल के बेसमेंट से पुलिस को गौरांग का जूता मिला है। इसके अलावा पुलिस को कई अहम सुराग भी मिले हैं।

देर रात तक खुला बार 

                     घटना देर रात की है। बार खुलने बन्द होने का समय निर्धारित होता है। बावजूद इसके बार देर तक आखिर क्यों खुला रखा गया। जानकारी के अनुसार आबकारी ठेकेदार के पुत्र टीडीएस बार का संचालन करता है। आबकारी विभाग मे गहरी पैठ होने के कारण टीडीएस बार देर रात तक खुला रखा गया। शायद इन्ही कारणों से आबकारी विभाग का अमला बार को बंद कराने का भूल भी नहीं करता है। शहर के अधिकांश  रईसजादे पीने पिलाने यार दोस्तो के साथ यही पहुचते है। देर रात तक हुड़दंग मचाते है। पूर्व मे टीडीएस बार में मारपीट की के घटनाएं हो चुकी है। शहर के प्रभावशाली लोगो की बिगड़ी संतानो पर पुलिस भी सीधे हाथ डालने से कतराती है ।

पौधरोपण कार्यक्रम में अमर करेंगे शिरकत

न्याय मिलने की कितनी संभावना

                      गौरांग अपने माता पिता का इकलौता लड़का है। गौरांग से एक छोटी बहन भी है। गौरांग बोबडे पूना से बीई स्नातक है। पिता श्रीराम चंपत बोबड़े ने बताया कि मैने अपना लड़का हमेशा के लिए खो दिया। वह लौटकर आने वाला भी नहीं है। लेकिन न्याय मुझे चाहिए। मुझे डर है कि मेरी आवाज नक्कार खाने में तूती तो साबित नहीं हो जाएगी। पुलिस पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है। सभी लोग पैसे वाले हैं। सुनने में आ रहा है कि पुलिस  को कुछ अज्ञात चेहरे दबाव डाल रहे हैंं कि गौरांग की मौत को सीढी से गिरकर होना बताया जाये। पीएम रिपोर्ट में भी ऐसा ही कहने को शायद कहा जा रहा है। इसलिए पोस्टमार्टम में देरी की जा रही है।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS