कांग्रेसियों ने की CM के खिलाफ FIR की मांग…कहा…राष्ट्रीय चिन्ह का हुआ अपमान…करोड़ों लोगों की भावनाओं को लगी ठेस

बिलासपुर— जिला कांग्रेस शहर और ग्रामीण अध्यक्ष की अगुवाई में आज कांग्रेसियों ने सिविल लाइन पहुंचकर प्रदेश मुखिया डॉ.रमन सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज किए जाने की मांग की है। थाना पहुंचकर कांग्रेस नेताओं ने बताया कि मुख्यमंत्री के पोस्टर में राष्ट्रीय चिन्ह को पैर के नीचे दिखाया गया है। अशोक स्तम्भ हमारा राष्ट्रीय चिन्ह होने के साथ-साथ करोड़ों भारतीयों के आस्था का प्रतीक भी है। राष्ट्रीय चिन्ह के साथ अपमान कोई भी भारतीय पसंद नहीं करेगा। बावजूद ऐसा जानबूझकर किया गया है। इसलिए प्रदेश मुखिया के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया जाए। यह जानते हुए भी राष्ट्रीय चिन्ह जिस स्थान पर बनाया गया है कोर्ट गाइड लाइन के खिलाफ है।
                            कांग्रेस नेता अटल श्रीवास्तव,विजय केशरवानी,नरेन्द्र बोलर समेत दर्जन भर से अधिक कांग्रेसियों ने सिविल लाइन थाना पहुंचकर मुख्यमंत्री के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की है। कांग्रेसियों ने बताया कि मुख्यमंत्री और उनकी पार्टी ने करोड़ों भारतीयों के आस्था को चोट पहुंचाया है। शहर में सीएम के स्वागत में जगह जगह लगाए गए पोस्टरो में राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह अशोक स्तम्भ को मुख्यमंत्री के जूतों के नीचे बनाया गया है। ऐसा करना सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन के खिलाफ है। इससे जनता की भावनाओं को ठेस पहुंचा है।
                     विजय अटल और नरेन्द्र ने बताया कि 90 सालों की लम्बी लड़ाई के बाद 15 अगस्त 1947 को देश आजाद हुआ। हजारों लाखों लोगों ने भारत माता को स्वतंत्र कराने अपने आपको होम किया। 26 जनवरी को 1950 को सर्वसम्मति से देश का संविधान देश में लागू हुआ। करोड़ों देशवासियों से रायशुमारी के बाद देश की आन बान शान राष्ट्रीय प्रतीक चिन्हों को अपनाया गया। राष्ट्रीय प्रतीक चिन्हों को देश की जनता सिर माथे पर रखती है। अमर सेनानियों की शहादत को याद भी दिलाती है।
                                                   राष्ट्रीय प्रतीक चिन्हों में अशोक चक्र का अहम स्थान है। अशोक महान ने भगवान बुद्ध से प्रभावित होकर धर्म चक्र परिवर्तन के प्रतीक चक्र को जन्म दिया। इस चक्र के माध्यम से परिवर्तन का संदेश महान राजा ने दिया। आजादी के बाद देश ने इस चिन्ह को सर्वसम्मति से अपनाया। यह चक्र कमोबेश सभी धर्मों में लोकप्रिय और आस्था का प्रतीक भी है। लेकिन सत्ता में डूबे भाजपा नेताओं को लोगों की आस्था से कोई मतलब नहीं है। उन्हें सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का भी डर नहीं है।
          कांग्रेस नेताओं ने थाना प्रभारी से लिखित शिकायत कर बताया कि भाजपा और छत्तीसगढ़ सरकार ने राष्ट्रीय चिन्ह को जूते के नीचे छापकर जनभावनाओं को ठेस पहुंचाया है। इसलिए ऐसे लोगों के खिलाफ राष्ट्रीय द्रोह का मामला दर्ज किया जाए।
                   थाना घेराव के दौरान जिला शहर कांग्रेस अध्यक्ष नरेंद्र बोलर,प्रदेश महामंत्री अटल श्रीवास्तव, जिला कांग्रेस ग्रामीण अध्यक्ष विजय केशरवानी, डा.बद्री जायसवाल, कांग्रेस पार्षद प्रवक्ता शैलेन्द्र जायसवाल, प्रदेश सचिव महेश दुबे,पार्षद शेख नजीरुद्दीन,महिला कांग्रेस अध्यक्ष सीमा पाण्डेय, जिला शहर उपाध्यक्ष सीमा सोनी,पूर्व महापौर राजेश पाण्डेय, पूर्व जिला कांग्रेस शहर अध्यक्ष रविन्द्र सिंह,शहर ब्लाक एक अध्यक्ष तैयब हुसैन,ब्लाक दो अध्यक्ष विनोद साहू,जावेद मेमन समेत तीन दर्जन से अधिक कांग्रेस मौजूद थे। इस दौरान सभी नेता सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए एफआईआर  दर्ज करने की मांग की।
                  शिकायत लिए जाने के बाद सभी कांग्रेसी सिविल लाइन से अपने ठिकाने लौट गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *