मेरा बिलासपुर

कांग्रेसियों ने छो़ड़े सरकार पर जहरबुझे तीर

IMG_20151126_120810बिलासपुर— जिला कांग्रेस कमेटी के ग्रामीण अध्यक्ष राजेन्द्र शुक्ला की अगुवाई में आज किसान न्याय अधिकार पदयात्रा बन्नाक चौक सिरगिट्टी से रवाना होकर पहले दिन की पदयात्रा सरवानी में खत्म हुई। यात्रा रवाना होने से पूर्व बन्नाक चौक पर कांग्रेस के दिग्गज नेताओं ने उपस्थित लोगों को सबोधित किया। इस दौरान कांग्रेसियों ने भाजपा के रीति और नीति पर जमकर चोट किया। कमोबेश सभी वक्ताओं ने अपने भाषण में किसान बोनस और सूखे के मुद्दों को लेकर भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधा।

                                       14अक्टूबर से कांग्रेस की किसान न्याय यात्रा को पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल ने झण्डी दिखाकर कोनी से रवाना किया था। यात्रा कुल पांच चरण में तय किया गया। आज पांचवे और अंतिम चरण की तीन दिवसीय किसान न्याय पदयात्रा सिरगिट्टी से रवाना हुई। बन्नाक चौक पर आयोजित सभा को पीसीसी महामंत्री अटल श्रीवास्तव ने संबोधित करते हुए कहा कि रोम जल रहा है लेकिन नीरो को बांसूरी बजाने से फुरसत नहीं है। मुख्यमंत्री सेल्फी सेल्फी खेल रहे हैं।

                      प्रदेश के किसान भूख से दोहरा हो गया है लेकिन हमारे मुखिया को हाकी मैच की चिंता ज्यादा सता रही है। अटल ने कहा कि किसान लगातार भूख से मर रहे है लेकिन मुख्यमंत्री को कुछ दिखाई नहीं दे रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता प्रशासनिक अत्याचार से परेशान है। लेकिन मंत्री पर आती है तो मुख्यमंत्री विचलित हो जाते हैं। अटल ने बताया कि अभी तक राहत कार्य शुरू नहीं हुआ है। सोचने वाली बात है कि सिर्फ घोषणा कर देने मात्र से लोगों को राहत नहीं मिल जाती है। इसके लिए काम करना पड़ता है। लेकिन रमन सरकार हाथ पर हाथ धरकर बैठी है।

अब तक 133 नामांकन फार्म की बिक्री...31 महिलाओं ने लिया फार्म..एक ने दाखिल किया आवेदन पत्र

                  सभा को संबोधित करते हुए राजेन्द्र शुक्ला ने बताया कि किसान यात्रा का ही प्रभावा है कि सरकार दबाव में आ गयी है। पहले 92 फिर 10 और अब सात अन्य क्षेत्रों को सूखे में शामिल किया है। राजेन्द्र ने बताया कि वर्तमान बोनस तो दूर अभी पुराना बोनस ही किसानों को नहीं मिला है। क्योंकि सरकार के पास किसानों के लिए खजाने में धन नहीं है। लेकिन उद्योगपतियों को खुश करने के लिए उनके कोष में तीन हजार करोड़ रूपए दान देने के लिए हैं। वह भी किसान और गरीब का ही पैसा है। लेकिन उसे किसानों को नहीं दिया जाएगा। जिला कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि जनता भूख और भय से परेशान है। मरवाही की हालत किसी से छिपी नहीं है। किसानों के पास दाना नहीं है। लोग भूख के कारण पलायन कर रहे हैं। लेकिन मुख्यमंत्री वादे पर वादे करते जा रहे हैं।

IMG-20151126-WA0005                कार्यक्रम को संबोधित करते हुए स्थानीय विधायक सियाराम कौशिक ने कहा कि प्रदेश सरकार निरंकुश हो चुकी है। कानून व्यवस्था नाक की कहीं कोई चीज नहीं है। राजेन्द्र के हत्यारे को बचाने का प्रयास किया जा रहा है। लेकिन हम ऐसा नहीं होने देंगे। सियाराम ने कहा कि कांग्रेस राजेन्द्र तिवारी के लिए अंत तक लड़ेगी। जिला कांग्रेस अध्यक्ष राजेन्द्र शुक्ला किसानों की हित के लिए पदयात्रा पर निकले हैं। इसका असर अब धीरे-धीरे नहीं बल्कि तेजी से दिखने लगा है। सरकार पदयात्रा को लेकर भयभीत है।

                             कार्यक्रम को संभागीय प्रवक्ता अभय नारायण राय ने भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस दमनकारी नीतियों का हमेशा विरोध करती है। कांग्रेस जन की पार्टी है। जब जब जन पर अत्याचार होता है कांग्रेस उनके साथ खड़ी होती है। उन्होंने कहा कि किसानों को न्याय मिलेगा। उन्हें बोनस,समर्थन मूल्य सरकार को देना ही होगा।

गौरेला मे शिकायत मिली तो सीएम ने तुरत सील करा दी राशन दुकान

               सभा को पूर्व विधायक चन्द्र प्रकाश वाजपेयी ने भी संबोधित किया। उन्होने इस दौरान भाजपा सरकार की रीति और नीति को जमकर भर्त्सना की। इस दौरान जसबीर गुम्बर ने भी उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि वह समय आ गया है कि किसान,मजदूर और आम जनता अपने अधिकारों के लिए सोचे नहीं बल्कि पदयात्रा के साथ कदम से कदम मिलाकर चलें। उन्हें कांग्रेस न्याय दिलाकर रहेगी।

                   कार्यक्रम को पूजा खनूजा,नरेद्र बोलर,अजय सिंह ने भी संबोधित किया। इस दौरान कांग्रेस नेता सतनाम सिंह खनूजा, हर्मेन्द्र शुक्ला,किसान न्याय यात्रा प्रभारी पिनाल उपवेजा समेत वरिष्ठ कांग्रेसी उपस्थित थे।

                      यात्रा करीब साढ़े बारह बजे बन्नाक चौक से रवाना हुई। यात्रा प्रभारी पिनाल उपवेजा ने बताया कि यात्रा कोरमी,बसिया,हर्दी,सिलपहरी,मगरउछला, होते हुए सरवानी पहुंची। यात्रा का जगह जगह भव्य स्वागत किया गया। इस दौरान किसानों और गरीब मजदूरों ने यात्रा का समर्थन करते हुए पदयात्रा में शामिल हुए। सरवानी में पदयात्रा के समर्थन में ग्रामीणों ने जमकर नारेबाजी और फूल माला से स्वागत किया।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS