किसानों ने प्रशासन को बताया..सड़क जर्जर,खरीदी केन्द्र दूर..मूलभूत सुविधाओं का टोंटा..पूरी करें किसानों की मांग

बिलासपुर—-भारतीय किसान संघ बिलासपुर ईकाई अध्यक्ष धीरेन्द्र दुबे की अगुवाई में किसानों ने मुख्यमंत्री के नाम12 सूत्रीय मांग जिला प्रशासन को दिया। पत्र के माध्यम से किसानों ने धानखरीदी समेत कई प्रमुख मांगों को पेश किया। जिला प्रशसन को धीरेन्द्र दुबे ने बताया कि समस्याओं को लेकर किसानों का आक्रोश दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है। समस्या का जल्द से जल्द निराकरण किया जाए।
 
                      भारतीय किसान संघ बिलासपुर अध्यक्ष धीरेन्द्र दुबे की अगुवाई में किसानों ने जिला प्रशासन को मुख्यमंत्री के नाम मांग पत्र दिया। धीरेन्द्र दुबे ने प्रशासन को बताया कि धान खरीदी का काम शुरू हो गया। लेकिन केन्द्रों में पीने की पानी समेत शौचालय की ब्यवस्था नहीं होने से किसान परेशान है। शासन के निर्देश के बाद भी खरीदी केन्द्रों में तौलाई का काम परम्परागत तराजू बाट से हो रहा है। धान की तौल इलेक्ट्रिक तौलाई मशीन से कराई जाए। रकबा कटौती सुधार समय सीमा को बढाई जाए।
 
                  प्रशसन के अधिकारी को धीरेन्द्र दुबे और प्रतिनिधिमण्डल ने बताया कि विकासखण्ड कोटा के ग्राम मेलनाडीह से ग्राम बाम्हु तक मुख्य नहर की सड़क जर्जर है। सड़क का मरम्मत कार्य का किया जाना बहुत जरूरी है। चपोरा के चापी जलाशय आश्रित ग्राम लालपुर तक नाली निर्माण किया जाए। कोटा क्षेत्र के ग्राम सेमराडीह, बिरगहनी, बांसाझार,के ग्रामो तक सिंचाई के लिए मुख्य नहर निर्माण कराई जाए।
 
               धीरेन्द्र दुबे ने बताया कि बिल्हा विकासखण्ड के ग्राम बैमा-नगोई को नई हसील बेलतरा में सम्मिलित किया गया है। किसानों और आम जनता की मांग है कि बैमा नगोई को यथावत बिलासपुर तहसील में रहने दिया जाए। खमतराई से लगरा और खमतराई से मोपका नहर के किनारे रोड निर्माण किया जाना बहुत जरूरी है। जर्जर मार्ग होे के कारण आम लोग परेशान है। अपनी शिकायत में किसान नेता ने बताया कि मस्तूरी के ग्राम पाराघाट में वसुंधरा कम्पनी ने किसानों की जमीन को उद्योग डालने के नाम पर खरीद। वसुन्धरा प्लांट ने उद्योग के नाम पर खरीदी गयी सस्ती जमीन को अन्य कम्पनी राशि पावर प्लांट को ऊंचे दाम पर बेच दिया है। जमीन किसानों को वापस दिलायी जाए। जमीन पर राशि कम्पनी के निर्माण कार्य को तत्काल रोका जाए। 
 
                 धीरेन्द्र ने बताया कि बिल्हा के ग्राम बहतराई के किसानों को सीपत रोड़ से खमतराई धान खरीदी केंद्र जाने के लिए 12-13 किलोमीटर घूमना पड़ रहा है। रोड बहुत ही जर्जर है,। जबकि सरकंडा से धान खरीदी केन्द्र की दूरी मात्र 5 से 6 किलोमीटर ही। ऐसी सूरत मं किसानों की मांग है कि खरीदी केन्द्र तक पहुंचने के लिए किसानों को सरकन्डा क्षेत्र से होकर धान परिवहन करने का आदेश दिया जाए।
 
                  प्रतिनिधिमण्डल में जिला मंत्री हेमंत सोनू तिवारी , विजय यादव ,राजू सिंह माधोसिंह प्रफुल्ल मिश्रा , रामशुशील पांडेय,रामसेवक कुशवाहा ,मनहरण साहू , लक्छमी सिन्हा , राकेश भोसले ,महेश यादव , धर्मराज सिंह , लक्छमी साहू , पहारू साहू , मनोहर पटेल , आनंद ध्रुव, मूलचंद खूंटे ,सहित बड़ी संख्या में जिले के कृषक उपस्थित थे ।
       

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *