कृषि व्यापारी संगठन की हुंकार…हवाई सेवा को बताया मूलभूत अधिकार.. अनदेखी नहीं कर सकती सरकार

बिलासपुर—-हवाई सेवा आंदोलन के 108 वें दिन कृषि व्यापारी संघ बिलासपुर के सदस्यों धरना स्थल पहुंचकर समर्थन किया है। संघ के वक्ताओ ने कहा हम बिलासपुर को महानगरों जैसा देखना चाहते है। महानगरों जैसा विकास भी चाहते है। लेकिन महानगरों जैसी सुविधांए सरकार नहीं देना चाहती है।
 
             धरना आंदोलन में कृषि व्यापारी संगठन के नेताओं ने कहा कि सरकार को समझना होगा कि केवल सोच लेने मात्र से बिलासपुर महानगर नही बन जाएगा। जबकि यह धीरे धीरे होने वाली प्रक्रिया है। इसके लिए बिलासपुर की मूलभूत सुविधाओं को बढ़ना होगा। इन मूलभूत सुविधाओं में हवाई सेवा भी एक है।
 
                  कृषि व्यापारी संघ से जय सिंह राजपूत और फिरोज खान ने कहा कि बिलासपुर की  जनता सरकार से ज्यादा जागरूक है। क्योंकि शहर की मूलभूत हवाई सुविधा जिसकी पहल सरकार को स्वयं करनी चाहिए थी। उसके लिए बिलासपुर के लोगों को आगे आना पड़ रहा है। जनता एक सौ से अधिक दिनों से धरने पर है। लेकिन जनप्रतिनिधियों को लगता है कि केवल चिठ्ठी-पत्री कर देने से हवाई सुविधा मिल जाएगी। कागजों पर लकीर उकेरना और  व उसे जमीनी हकीकत प्रदान करना दो अलग-अलग चीजे है।
 
           वक्ताओं ने कहा कि हवाई सुविधा के लिए सतही तौर पर यथोचित प्रयास सरकार और जनप्रतिनिधियों को करना होगा। संघ के सुदर्शन पटेल और विजय कुमार पटेल ने कहा कि बिलासपुर के नागरिक कई दिनो से राज्य और केन्द्र सरकार से हवाई सेवा की मांग कर रहे हैं। लेकिन सरकार के कान में जूं तक नहीं रेंग रहा है। सरकार को शहर की मांग को पूरा करना ही होगा। क्योकि हवाई सेवा आज बिलासपुर संभाग की मूलभूत जरूरतों में से एक है।
 
        सभा को बजरंग बंजारे एमआईसी मेम्बर रामप्रकाश साहू पार्षद और पूर्व पार्षद संतोष कुमार साहू ने भी संबोधित किया। इस दौरान सभा में कृषि व्यापारी संघ से द्वारिका गुप्ता, चतुर्भुज अग्रवाल, षिवनारायण कश्यप , कन्नु भाई, हर्ष सेठ , विजय कुमार मौर्य, अशोक जगवानी, महेश साहू, सतीष भोजवानी, रतन धीरवानी, मनीष रजक, नारायण कौशिक, जागेश्वार प्रसाद चंद्राकर, निलेष यादव, विशाल, सुबोध दत्ता, दिलहरण षर्मा, हरीष यादव, रामस्वरूप चंद्राकर, विजय अग्रवाल शामिल हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *