केन्द्रीय विश्वविद्यालय की यूजीसी से शिकायत..छात्र नेता ने कहा..बच्चों के भविष्य से किया जा रहा खिलवाड़

बिलासपुर—- केन्द्रीय विश्वविद्यालय छात्र परिषद अध्यक्ष सचिन गुप्ता ने यूजीसी चेयरमैन को पत्र लिखा है। छात्र परिषद नेता ने अपने पत्र में केन्द्रीय विश्वविद्यालय की शिकायत की है। सचिन गुप्ता ने लिखा है कि सी यू  मे यूजीसी के निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है। छात्र नेता ने कहा है कि केन्द्रीय  विश्वविद्यालय में लाकडाउन के दौरान वर्चुअल पढ़ाई को सुचारू रूप से चालू किये जाने की जरूरत है।
 
                     केन्द्रीय विश्वविद्यालय छात्र नेता सचिन गुप्ता यूजीसी चेयरमैन को पत्र लिख विश्वविद्यालय की गतिविधियों की शिकायत की है। अपने पत्र में छात्र नेता ने लिखा है कि देश महामारी की चपेट में है। इसे रोकने के लगातार प्रयास भी किया जा रहा है। लोकडाउन के माध्यम से कोरोना के खिलाफ जंग का एलान किया गया है। स्थितियों को देखते हुए केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने देश के विभिन्न केंद्रीय विश्वविद्यालयों के कुलपति और  कुलसचिव की बैठक ली थी। 
 
             बैठक में मानव संसाधन विकास मंत्री ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर छात्रों को वर्चुअल इंटरनेट के माध्यम से पढ़ाई पर ध्यान देने को कहा गया। कुलपति और कुलसचिव को निर्देश दिया गया कि विश्वविद्यालय के अध्यापक छात्रों की वर्चुअल इंटरनेट के माध्यम से अध्ययन कराए। साथ ही पढ़ाई मेें किसी प्रकार की कोताही ना बरती जाए। 
 
                सचिन ने बताया कि बावजूद इसके मानव संसाधन मंत्री के आदेश का केन्द्रीय केंद्रीय विश्वविद्यालय ने दरकिनार कर दिया है। गुरु घासीदास विश्वविद्यालय के ज्यादातर विभागों में अध्यापक गण छात्रों के व्हाट्सएप ग्रुप में केवल पीडीएफ फाइल या नोट्स देकर ही  अपनी जिम्मेदारी से मुंह मोड़ रहे हैं। छात्रों को दिए गए नोट्स मटेरियल से पढ़ने को बोल रहे हैं। जिससे छात्रों को  अध्ययन में समस्या हो रही हैं। 
 
                  छात्र नेता ने बताया कि विश्व विद्यालय के अध्यापकों को निर्देशानुसार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये टॉपिक्स को समझाना चाहिए। लेकिन ऐसा होता नहीं दिख रहा है। इसलिए छात्र परिषद के पदाधिकारियों और सदस्यों ने मांग को लेकर यूजीसी चेयरमैन विश्वविद्यालय कुलपति , विश्वविद्यालय कुलसचिव,छात्र कल्याण अधिष्ठाता के साथ पत्राचार किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *