मेरा बिलासपुर

खत्म हुई बैंक की झिकझिक

IMG_20150701_130500बिलासपुर—- बिलासपुर सहकारी बैंक से जुड़े सभी किसानों और हितग्राहियों की जेब में अब सहकारी बैंक का भी एटीएम कार्ड होगा। उसके पास वक्त नहीं है। इसलिए वह बैंकों की लम्बी-लम्बी लाइनों का भी इंतजार नहीं करेगा। यह बातें बिलासपुर सांसद लखनलाल साहू और जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन देवेन्द्र पाण्डेय ने जगमल चौक के पास जिला सहकारी बैंक के एटीएम उद्घाटन के बाद कही।

                         जिला सहकारी बैंक ने आज बिलासपुर में अपना दूसरा एटीएम किसानों को समर्पित किया। जगमल चौक के पास विधि विधान से पूजा पाठ के बाद सासंद लखन लाल साहू और जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन देवेन्द्र पाण्डेय ने आम लोगों को भी एटीएम मशीन समर्पित किया। मालूम हो कि जिला सहकारी बैंक ने एलान किया है कि पहले चरण में बैंक के सभी शाखाओं में कम से कम एक एटीएम इस सत्र में जरूर खोलेगा। इसके बाद इसका विस्तार रूरल क्षेत्र में भी किया जाएगा।

                       सांसद लखन लाल साहू ने बताया कि भारत कृषि प्रधान देश है। किसान बारह महीना देश वासियों के पेट भरने के लिए अपने खेत में जूझता है। उसके पास समय नहीं रहता कि वह अपने ही पैसे के लिए बैंक की लम्बी लाइनों में खड़े होकर इंतजार करे। ऐसे में जिला सहकारी बैंक का ज्यादा से ज्यादा जगह एटीएम खोलने का निर्णय काबिले तारीफ है। अब किसान का वक्त भी बरबाद नहीं होगा और अपने पैसे के लिए बैंक का दरवाजा खटखटाना नहीं पड़ेगा।

IMG_20150701_130154                 जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन देवेन्द्र पाण्डेय ने बताया कि मुझे खुशी है कि जिला सहकारी बैंक का पहला और दूसरा एटीएम बिलासपुर में ही खुला। अब जब दूर दराज के किसान बैंक आएंगे तो अपनी कृषि संबधित समस्याओं को लेकर। उन्हें पर्याप्त समय मिलेगा अन्य कार्यालयों में जाकर अपनी बातों को रखने का। क्योंकि उन्हें अब अपने पैसे के लिए बैंक का चक्कर काटने की जरूरत नहीं है। देवेन्द्र ने बताया कि एटीएम कार्ड बनने में कुछ देरी जरूर हई है। लेकिन किया भी क्या जा सकता है। हमने सभी आवेदकों का आवेदन आन लाइन मुम्बई भेज दिया है। धीरे-धीरे सभी आवेदक किसानों के एटीएम कार्ड भी आना शुरू हो गया है। जल्द ही हमारे बैंक से जुडे लाखों किसानों और हितग्राहियों को इसका फायदा भी मिलने लगेगा। पाण्डेय ने सीजी वाल को बताया कि जिला सहकारी बैंक का एटीएम सभी बैंकों में मान्य है चाहे वह कोई भी बैंक क्यों ना हो। इसका उपयोगन विदेश में रहने वाले किसानों के बच्चे भी कर सकते हैं।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS