मेरा बिलासपुर

गांव सरकार ने लगाया हुक्का पानी पर प्रतिबंध

   IMG_20150626_142608बिलासपुर— बिलासपुर से लगे फरसापानी के 16 परिवार ने कुछ दबंगों पर उनके परिवार को गांव से बहिष्कृत किये जाने का आरोप लगाया है। ग्रामीणों ने पुलिस कप्तान को बताया कि मंदिर को हड़पने की फिराक में दबंगों ने ग्रामीणों को भड़का दिया है। जिसके बाद गांव के लोगों ने मंदिर की सेवा करने वाले 16 परिवार का सामाजिक बहिष्कार कर दिया है। इसके चलते उनका अब गांव में रहना दूभर हो गया है।

                           फरसापाली गांव के परिवार के सदस्य पुलिस मुख्यालय पहुंच एस.पी. अभिषेक पाठक से न्याय की गुहार लगाई है। ग्रामीणों ने बताया कि गांव के लोग कुछ दबंगों के इशारे पर उनका सामाजिक बहिष्कार कर दिया है। इसके चलते गांव में अब उनका रहना मुश्कित हो गया है।

                            पीडित परिवार ने बताया कि गांव में मन्ना देवी की एक प्राचीन मंदिर है। जो ग्रामीणों के रहमों करम पर चलता है। मंदिर से कंवर समाज के 16 परिवार का पेट भरता है। मंदिर का बैगा मनहरण ने बताया कि गांव के ही कुछ लोगों के इशारे पर नारी शक्ति का गठन किया गया। समिति के सदस्यों का कहना है कि जब गांव के लोगों ने एक होकर समिति का गठन किया है तो मंदिर के प्रत्येक चढ़ावे और संपत्ति पर उनका अधिकार है। बैगा ने जब इसका विरोध किया तो समिति के सदस्यों ने ग्रामीणों को भड़का दिया। स्थानीय लोगों से मिली भगत कर कंवर समाज के 16 परिवार का हुक्का पानी बंद कर दिया।

                         मंदिर का बैगा मनहरण ने बताया कि गांव की कृपा से हमारा पेट पलता है। नारी शक्ति समिति ने उससे कहा कि यदि चढ़ावा नहीं दोगे तो गांव से सभी को निकाल दिया जाएगा। इसके बाद हमने नारी समिति को सप्ताह में एक दिन छोड़कर सभी दिन का आधा चढ़ावा देना शुरू कर दिया। अब समिति सातों दिनों का चढ़ावे की मांग कर रही है। मनहरण ने बताया कि परम्परानुसार गुरूवार का चढ़ावा सिर्फ मंदिर की सेवा करने वालों को दिया जाता है। लेकिन नारी शक्ति समिति अब गुरूवार का भी चढ़ावा मांग रही है। जो नियमानुसार संभव नहीं है। चढ़ावा नहीं दिये जाने पर दबंगों के इशारे पर गांव वालों ने 16 परिवार का हुक्कापानी बंद कर दिया है। इसमें वे परिवार भी शामिल हैं जिन्हें गांव वाले पुरानी बातों को लेकर सजा सुनाया है।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS