चक्काजाम कर सड़क गुणवत्ता जांच की मांग…अंकित पर पार्टी ने बनाया इस्तीफा का दबाव

IMG-20170529-WA0927 बिलासपुर– जनता कांग्रेस नेता अंकित गौरहा अपने समर्थकों के साथ हिर्री स्थित रायपुर बिलासपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर चक्काजाम किया। जिसके चलते घंटो यातायात व्यवस्था प्रभावित हुई। अंकित गौरहा ने प्रधानमंत्री सड़क योजना में बनायी सड़कों में ठेकेदार और अधिकारियों के बीच भ्रष्टाचार का आरोप लगाया। अंकित गौरहा ने बताया कि तखतपुर और बिल्हा विकासखण्ड में 13 वित्त आयोग से बनाई गयी सभी सड़कें जर्जर हो चुकी है। सड़कों के निर्माण में सात करोड़ रूपए का घोटाला किया गया है।

                    मालूम हो कि जनता कांग्रेस नेता अंकित गौरहा ने प्रधानमंत्री स़ड़क योजना के तहत तखतपुर और बिल्हा में बनायी गयी सड़कों में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। अंकित गौरहा के अनुसार वरूण राजपूत,शुभनारायण पाठक समेत अन्य इंजीनियरों ने कम्पनी ठेकेदार से मिलकर घटिया सड़क का निर्माण किया। सात करोड़ से अधिक की राशि का घोटाला किया है।

                 अंकित गौरहा के अनुसार प्रधानमंत्री प्रभारी कार्यपालन अभियंता वरूण राजपूत और अन्य अभियंताओं ने तखतपुर और बिल्हा विकासखण्ड में बनायी गयी सड़कों में करोड़ों का बंदरबांट किया है। सड़क बनाते समय अर्थवर्क,सबग्रेड,जीएसबी,डब्लूबीएम,पीएमसी,सील कोट और कांक्रीट का कार्य गुणवत्ताहीन किया गया। देखते ही देखते तीन महीने के भीतर सड़कें बरबाद हो गयीं।

                           2010-11 और  2015-16 में सड़कों का नवीनीकरण उन्ही कंपनियों ने किया जिन्होने सड़कों का निर्माण किया था। यहां भी निर्धारित मानकों के अनुसार सड़कों की मरम्मत नहीं हुई। अग्रवाल इन्फ्राफिल्ड और मेसर्स बिटुमैक कंस्ट्रक्शन प्रायवेट लिमिटेड कंपनी के मालिकों ने वरूण राजपूत समेत अन्य इंजीनियरों के साथ सड़क का पैसा डकार लिया।

तहसीलदार ने दिया आश्वासन

                  चक्काजाम से यातायात प्रभावित होने पर बिल्हा तहसीलदार ए.के.गुप्ता मौके पर पहुंच चक्काजाम वापस लेने को कहा। अंकित ने लिखित शिकायत कर गुणवत्ताहीन सड़कों की जांच स्वतंत्र एजेंसी से करवाने को कहा है। IMG-20170529-WA0925उन्होने मांग पूरी नहीं होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है। तहसीलदार ने शिकायत को जिम्मेदार अधिकारियों तक पहुंचाने का अाश्वासन दिया है।

अंकित पर पार्टी छोड़ने का दबाब

                     जानकारी के अनुसार अंकित गौरहा के आंदोलन का पार्टी के अन्दर बड़े नेता लगातार विरोध कर रहे हैं। आंदोलन से नाराज जनता कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता नेता ने पार्टी सुप्रीमों से अंकित को बाहर का रास्ता दिखाने को कहा है। बताया जा रहा है कि वरिष्ठ नेता ने सुप्रीमो को दो टूक कहा कि यदि अंकित गौरहा को पार्टी से नहीं निकाला जाता है तो मुझे पुरानी पार्टी से परहेज नहीं है। जानकारी के अनुसार वरिष्ठ नेता के कद को ध्यान में रखते हुए दो एक दिन के भीतर अंकित गौरहा को सुप्रीमों की तरह से पार्टी निष्कासन का पत्र मिल सकता है।

                        बताया जा रहा है कि सुप्रीमों नहीं चाहते कि अंकित गौरहा पार्टी से बाहर हों। यदि ऐसी स्थिति आती है तो उन्हें पार्टी निष्कासन का पत्र जारी नहीं करना पड़े। अन्दर से मिली खबर के अनुसार सुप्रीमों की उहाफोह की स्थिति को देखते हुए अंकित गौरहा पर इस्तीफा देने का पारिवारिक दबाव बनाया जा रहा है। यदि मंगलवार को अंकित गौरहा जनता कांग्रेस पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा देने का एलान कर दें तो कोई आश्चर्य नहीं होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *