एसडीओ चौरसिया को कानन पेण्डारी से हटाए..संभागायुक्त से राजस्व अधिकारियों ने कहा..पर्यटन स्थल पर ऐसे अधिकारी ठीक नहीं

बिलासपुर— राजस्व अधिकारियों ने संभागायुक्त से लिखित शिकायत कर अधिकारी से अभद्र व्यवहार करने वाले कानन पेण्डारी के अधिकारी को तत्काल हटाए जाने की मांग की है। राजस्व अधिकारियों ने संभागायुक्त बीएल बंजारे को बताया कि एसडीओ चौरसिया ने एसडीएम विपुल गुप्ता के महिला परिजनों से उचित व्यवहार नहीं किया है। वाशरूम उपयोग करने पर महिलाओं को शर्मिन्दा किया है। ऐसे अधिकारी को पर्यटन स्थल पर रखना उचित नहीं होगा।

                              छत्तीसगढ़ कनिष्क प्रशासनिक अधिकारियों ने एक जुट होकर संभागायुक्त बीएल बंजारे से लिखित में एसडीओ विवेक चौरसिया के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। कनिष्क प्रशासनिक अधिकारियों ने बताया कि एसडीएम कवर्धा विपुल गुप्ता का परिवार दो दिन पहले कानन पेन्डारी का भ्रमण करने बिलासपुर आया था। इसी दौरान परिवार की सम्मानित महिला ने कानन पेन्डारी के एसडीओ कार्यालय स्थित वाशरूम का प्रयोग कर लिया। महिला की स्थिति इन दिनों कुछ ऐसी है कि उसे वाशरूम का प्रयोग करना बहुत जरूरी था। लेकिन एसडीओ ने लोकलाज को दरकिनार कर महिला परिजन के साथ अभद्र व्यवहार किया। 

                                  तहसीलदार और नायब तहसीलदारों ने बताया कि वाशरूम प्रयोग करने के बाद एसडीओ विवेक चौरसिया ने महिला समेत अन्य परिजनों के साथ दुर्रव्यवार किया। इतना ही नहीं इसके बाद विवेक चौरसिया ने खुद को बेदाग साबित करने पूरे प्रकरण को दबाते हुए मीडिया में तोड़ मरोड़कर ना केवल बयान दिया। बल्कि अपने संगठन को अंधेरे में रखकर प्रदर्शन भी किया।

                          अधिकारियों ने संभागायुक्त बंजारे को बताया कि अधिकारी का परिवार व्हीआईपी का ट्रीटमेन्ट नहीं चाहता है। और ना ही चाहता था। लेकिन महिलाओं के साथ किस तरह का व्यवहार किया जाए। इसकी जानकारी एसडीओ विवेक चौरसिया को नहीं है। जबकि वह पर्यटन स्थल के इंचार्ज है। लेकिन उन्होने अभद्रता कर कानन पेन्डारी को लांक्षित किया है।

तहसीलदारों ने जानकारी दी कि एक अन्य घटना में एसडीओ वन विभाग का वाहन चेकिंग के दौरान जब्त किया गया। एस़डीओ चौरसिया ने इसे अपनी गलती पर पर्दा डालने के लिए प्रयोग किया। मीडिया को झूठी जानकारी देकर प्रशासन को गुमराह किया है। अधिकारियों ने संभागायुक्त से कहा कि कानन पेन्डारी जैसे महत्वपूर्ण स्थल पर विवेक चौरसिया जैसे अंसवेदनशील और लापरवाह अधिकारी को हटाया जाए। यदि ऐसा नहीं किया गया तो भविष्य में महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार की घटना में इजाफा में होने से इंकार नहीं किया जा सकता है। है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *