छत्तीसगढ़ मे प्रधानमंत्री आवास योजना का पहला प्रोजेक्ट

113रायपुर। भारत सरकार द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत पहला प्रोजेक्ट छत्तीसगढ़ के लिए स्वीकृत किया गया है। प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए भारत सरकार के आवास एवं शहरी विकास सचिव श्रीमती नन्दिता चटर्जी की अध्यक्षता में गठित केन्द्रीय स्वीकृति एवं मॉनिटरिंग कमेटी की आज नई दिल्ली में आयोजित पहली बैठक में छत्तीसगढ़ की प्रस्तावित परियोजना को स्वीकृति दे दी गई। उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ पहला राज्य है, जिन्होंने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पहला प्रोजेक्ट प्रस्तुत किया है। केन्द्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्री एम. वैंकेया नायडू ने भी आज नई दिल्ली में अफोर्डेबल हाउसिंग पर आयोजित कार्यशाला में छत्तीसगढ़ की प्रशंसा की और कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पहला प्रोजेक्ट छत्तीसगढ़ प्रस्तुत किया है, जिसे आज मंजूरी दी जा रही है। छत्तीसगढ़ की प्रस्तावित परियोजना के तहत 1900 करोड़ रूपए की लागत से 26 हजार 908 मकान बनाए जाएंगे। इस परियोजना के तहत बनने वाले ई.डब्ल्यू.एस. और एल.आई.जी. श्रेणी के मकानों की कीमत सब्सिडी के बाद तीन से साढ़े चार लाख के बीच होगी। बैठक में छत्तीसगढ़ के आवास एवं पर्यावरण विभाग के सचिव संजय शुक्ला और छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल के आयुक्त सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी उपस्थित थे।

                                              आवास एवं पर्यावरण विभाग के सचिव संजय शुक्ला ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 1900 करोड़ रूपए की लागत के  26 हजार 908 मकान बनाने का प्रस्ताव भारत सरकार को प्रस्तुत किया गया था, जिसे पहली बैठक में ही स्वीकृति दे दी गई है। भारत सरकार से इन मकानों के लिए 190 करोड़ रूपए का अनुदान मिलेगा। उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत ई.डब्ल्यू.एस. श्रेणी के 12 हजार 670, एल.आई.जी. श्रेणी के 13 हजार 364 और एच.आई.जी. और एम.आई.जी श्रेणी के 874 मकान बनाए जाएंगे। ये मकान रायपुर के कमल विहार, नया रायपुर, नरदहा सहित महासमुन्द, राजनांदगांव, कांकेर, सुकमा, रायगढ़, बालोद, बिलासपुर और भिलाई में बनाए जाएंगे।

Comments

  1. By Pradeep xalxo

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *