छात्र संघ चुनावःएबीव्हीपी में दिखने लगी दरार

IMG_20150817_145332बिलासपुर— दोपहर तक शहर के कई महत्वपूर्ण कालेजों के छात्र संगठन ने अपने प्रत्याशियों के नाम की घोषणा कर दी है। एसबीआर कालेज में एबीव्हीपी समूह में दो फाड़ होने की जानकारी है। एसबीआर कालेज के छात्रों का आरोप है कि पूर्व छात्र नेता और वर्तमान पार्षद शैलेन्द्र यादव परिवाद को बढ़ावा दे रहे हैं। मंत्री का करीबी बताकर छात्रों पर अनावश्यक रौब दिखाते हैं। मालूम हो कि निगम चुनाव के दौरान शैलेन्द्र यादव पर जातिवाद और परिवाद को बढावा देने का आरोप लगा था। कुछ लोगों ने शैलेन्द्र की शिकायत स्थानीय मंत्री से भी की थी।

                        प्रारम्भिक जानकारी के अनुसार एबीव्हीपी के बागी गुट  को एनएसयूआई समर्थन दे रही है।  एबीव्हीपी के बागी गुट ने शैलेन्द्र का विरोध करते हुए अध्यक्ष पद के लिए  गौरी गुप्ता उपाध्यक्ष के लिए शीतल सिंघाले,सचिव पद के लिए विजय कोशले और सह-सचिव पद के लिए रामबहादुर सोनी को मैदान में उतारना निश्चित किया है। बागी गुट के छात्रों का कहना है कि पूर्व छात्र नेता और भाजपा पार्षद शैलेन्द्र यादव द्वारा कहा जा रहा है कि एसबीआर कालेज की छात्र राजनीति उनके इशारों पर चलती है। वह जिसे चाहेंगे वहीं अध्यक्ष बनेगा। शैलेन्द्र यादव के इस  बयान के बाद एबीव्हीपी दो गुटों में बंट गया है। मौके देखते ही एनएसयूआई ने चौका मारते हुए बागी पैनल को समर्थन देने का एलान किया है।

IMG_20150817_143240                      मालूम हो कि एसबीआर कालेज के निवर्तमान अध्यक्ष पद स्वाती यादव हैं इसके पहले शरद यादव और शैलेन्द्र यादव अध्यक्ष रह चुके हैं। यह तीनों ही भाई बहन है।

                                     शैलेन्द्र यादव ने कुछ ना बोलते हुए एबीव्हीपी की तरफ से अध्यक्ष पद के लिए सत्यम दुबे,उपाध्यक्ष पद पर गरिमा साहू, सचिव पद पर अनिल सूर्या और सह-सचिव के लिए मुकेश मिंज को संभावित प्रत्याशी के रूप में सामने लाया है। बताया जा रहा है कि एबीव्हीपी के  विरोधी गुट को जिले के एक दिग्गज भाजपा नेता का संरक्षण मिला हुआ है। मिली जानकारी के अनुसार एबीव्हीपी के दोनों गुटों में पदों को लेकर तालमेल बनाने का प्रयास भी किया जा रहा है। यदि ऐसा नहीं हो पाया तो इसका लाभ एनएसयूआई को मिल सकता है।

                    इसी तरह आज शहर के सबसे बड़े कालेज सीएमडी में भी एनएसयूआई और एबीव्हीपी ने अपने संभावित प्रत्याशियों का नाम सामने लाया है। एनएसयूआई ने अध्यक्ष के लिए रंजीत सिंह,उपाध्यक्ष के लिए मुकेश दुबे,सचिव के लिए नेहा जायसी और सह-सचिव के लिए जतिन केशरी को आगे किया है। इसी प्रकार एबीव्हीपी ने अध्यक्ष पद के लिए दीपक अग्रवाल,उपाध्यक्ष के लिेए वृषभ चतुर्वेदी, सचिव पद पर शालिन जयसिंहानियां और सहसचिव के लिए जैकी कुमार को छात्र संघ चुनाव में मौका मिल सकता है।

                                  डी.पी विप्र कालेज में एनएसयूआई ने आशिर्वाद पैनल से जिन लोगों की चुनाव लड़ने की संभावना जताई जा रही है उनमें अध्यक्ष पद के लिेए रूपेश कुमार,उपाध्यक्ष के लिए कोमल पासी,सचिव पद हेतु कल्याणी और सह-सचिव पद हेतु रूपेन्द्र सिंह का नाम सामने आ रहा है। डीपी विप्र में जोगी गुट के नेता अविनाश शेट्टी का दबदबा हमेशा से रहा है। वे जिसे चाहेंगे वहीं छात्र चुनाव लडेगा।

                       जानकारी के अनुसार भाजपा के कददावर पूर्व छात्र नेता माने जाने वाले राकेश तिवारी ने स्थानीय मंत्री को स्पष्ट रूप से डीपी विप्र महाविद्यालय छात्र संघ चुनाव की जिम्मेदारी लेने से इंकार कर दिया है । यदि यही स्थिति रही तो विप्र महाविद्यालय में एक बार फिर अविनाश शे्ट्टी समर्थित आशीर्वाद पैनल का दबदबा बनता नजर आ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *