इंडिया वाल

जन्म से गूंगे-बहरे बच्चे की कॉक्लियर सर्जरी,देश मे पहली बार सरकारी अस्पताल मे

जबलपुर-जबलपुर का सेठ गोविंददास चिकित्सालय कॉक्लियर इम्पलांट सर्जरी करने वाला भारत का पहला सरकारी जिला अस्पताल बन गया है। जन्म से श्रवण-बाधित 6 वर्षीय सैफ रज़ा का मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मुरली अग्रवाल के नेतृत्व में नाक, कान, गला विशेषज्ञ डॉ. रुमिता आचार्य, शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. हिमांशु आचार्य, निश्चेतना विशेषज्ञ डॉ. राजेश मिश्रा, डॉ. नितिन अडगांवकर और डॉ. विशाल मेहरा की टीम ने सफल ऑपरेशन किया। स्वास्थ्य संचालक प्रशासन, भोपाल भी इस दौरान मौजूद रहे।

राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम में जन्म से गूंग-बहरे बच्चों की कॉक्लियर सर्जरी शासन द्वारा मान्यता प्राप्त निजी चिकित्सालयों में नि:शुल्क की जाती है। कॉक्लियर इम्पलांट सर्जरी का 6 लाख 50 हजार रुपये का खर्च मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना में सरकार वहन करती है। योजना में प्रदेश के हजारों बच्चे लाभान्वित होकर स्वस्थ भविष्य की ओर बढ़ रहे हैं। आज हुई सर्जरी को सफल बनाने में स्वास्थ्य विभाग सहित राज्य आरबीएसके टीम का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

जिलाधिकारी का ऐलान-स्वच्छता अभियान के चैंपियन को 1 दिन के लिए बनाएंगे DM,क्या है पूरा मामला पढ़िए
Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS