जब पानी के लिए किया चक्का जाम…स्थानीय लोगों ने कहा…क्यों नजर नहीं आती निगम प्रशासन को हमारी तकलीफ

बिलासपुर— दयालबंद नारियालकोठी के लोगों ने पानी समस्या को लेकर प्रशासन का ध्यान खींचने मस्तूरी सड़क पर चक्का जाम कर दिया। बताते चलें कि वार्ड नम्बर 23 के लोगों ने पानी की समस्या को लोकर कई बार प्रशासन का दरवाजा खटखटाया। समस्या हल नहीं होने की सूरत में आज आक्रोश जाहिर कर बीच सड़क में धरना प्रदर्शन कर आवागमन को पूरी तरह से बंद कर दिया। इस दौरान नाराज लोगों ने निगम प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबादी की। बाद में निगम के आलाधिकारियों की समझाइश पर लोगों ने शर्तों के साथ चक्का जाम को खत्म भी कर दिया।

                                         दयालबन्द स्थित नारियल कोठी के सामने स्थानीय लोगों ने निगम प्रशासन के खिलाफ पानी समस्या को लेकर जमकर हंगामा किया। बीच सड़क पर बैठकर निगम प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। देखते ही देखते बिलासपुर मस्तूरी मार्ग पूरी तरह से जाम हो गया। किलोमीटरों गाड़ियां कतार बद्ध खड़ी हो गयी। इससे लोगों को घंटो तक भारी परेशानी का सामना करना पड़ा है।

                                         वार्ड क्रमांक 33 के लोगों ने बताया कि पिछले कई दिनों से पानी की एक एक बूंद के लिए तरस रहे हैं। निगम के नेता से लेकर अधिकारी  कई बार गुहार के बाद भी समस्या हल करने की दिशा में एक बार भी प्रयास नहीं किया है। पानी को लेकर मोहल्ले में आए दिन गाली गलौच से लेकर  मारपीट की स्थिति बनी रहती है। बावजूद इसके निगम प्रशासन हमारी समस्या को एक कान से सुनता है तो दूसरे से बाहर कर देता है। हमारे पास अब अपना आक्रोश जाहिर करने का चक्का जाम करने के अलावा कोई चारा नहीं है। इस दौरान लोगों ने नगर निगम के खिलाफ जमकर मुर्दाबाद के नारे लगाए।

       बताते चलें कि इन दिनों बिलासपुर के कमोबेश सभी वार्डों में पानी की विकराल समस्या है। जनमानस निगम प्रशासन की व्यवस्था से पूरी तरह से अजीज आ गया है। भूगर्भशास्त्रियों के अनुसार बिलासपुर जिला और शहर का जल स्तर बीस फिट नीचे चला गया है। जिसके कारण बोर के अलावा अन्य जलस्रोत सूख चुके हैं।

                       शहर और आसपास के क्षेत्रों में पानी को लेकर हाहाकार है। नारियालकोठी वार्ड नंबर 33 के अलावा आसपास से लगे वार्डो की भी हालत ठीक नहीं है। यंहा के लोगो ने पानी समस्या को लेकर रोशन राही, एमआईसी सदस्य उमेशचंद कुमार , मेयर किशोर राय को समस्या से कई बार अवगत कराया। लेकिन लोगों का कहना है कि जनप्रतिनिधियों ने हमारी समस्या को गंभीरता से नहीं लिया। हम लोग गंदा पानी को पीने को मजबूर है।

                    प्रदर्शनकारियों के अनुसार गंदा पानी पीने से बच्चों बूढो को उल्टी दस्त की शिकायत हो रही है। कई लोग गंदे पानी से पैदा बीमारियों को लेकर अस्पताल में भर्ती हैं। लोगों ने यह भी बताया कि निगम का टैंकर दिन भर में एक बार ही आता है। मात्र एक टैंकर से बड़े इलाके में पानी की मात्रा पर्याप्त नही है। यंहा तक मरनी हरनी के लिए भी पानी की कोई व्यवस्था नही है।

                    इधर पानी की समस्या को लेकर चक्का जाम की जानकारी मिलते ही जिला और पुलिस प्रशासन के साथ निगम प्रशासन भी मौके पर पहुच गया। आश्वासन और् शर्तों के बाद स्थानीय लोगों ने चक्काजाम प्रदर्शन को वापस लिया। घंटों बाद आवागमन शुरू होने से लोगों ने राहत की सांस ली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *