हमार छ्त्तीसगढ़

जब सीएम ने पकड़ी ग्रामर की गल्ती, गुरूजी की मिली शिकायत

grammer

रायपुर ।  मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम शिक्षा गुणवत्ता अभियान के तहत आज जिला मुख्यालय राजनांदगांव स्थिति स्टेट स्कूल में कक्षा छठवीं, सातवीं एवं आठवीं के बच्चों की क्लास ली। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह भारत के पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के जन्मदिन एवं अपने जन्मदिन के अवसर पर आज स्टेट स्कूल में शिक्षा गुणवत्ता का जायजा लेने एवं छात्र-छात्राओं से रूबरू होने पहुंचे थे।

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कक्षा छठवीं, सातवीं एवं आठवीं के बच्चों की लंबी क्लास ली। मुख्यमंत्री ने बच्चों से अंग्रेजी, विज्ञान, सामान्य ज्ञान एवं गणित के सवाल पूछे। मुख्यमंत्री जब आठवीं कक्षा में पहुंचे उस कालखण्ड के दौरान अंग्रेजी विषय का अध्ययन-अध्यापन चल रहा था। मुख्यमंत्री ने अंग्रेजी के वर्तमान काल, भूतकाल एवं भविष्यकाल के उदाहरण बच्चों से पूछे। उन्होने बच्चों की अंग्रेजी के व्याकरण में कमजोरी को तुरंत समझकर बच्चों को चार्ट बनाकर अंग्रेजी में वर्तमान काल, भूतकाल एवं भविष्य काल की जानकारी देने शिक्षिका श्रीमती श्रद्धा झा को निर्देशित किया। अंग्रेजी व्याकरण में काल को समझने के लिए कर्ता, सहायक क्रिया एवं क्रिया के रूप को जानना जरूरी है। मुख्यमंत्री ने इस विषय का रोज एक घंटे अभ्यास करने की सलाह दी।

मुख्यमंत्री ने कक्षा आठवीं के बच्चों से उनके पसंदीदा खेल के बारे में सवाल किये। सभी बच्चों ने कहा कि उन्हे क्रिकेट खेलना ज्यादा अच्छा लगता है। कल हुए भारत एवं दक्षिण अफ्रीका के बीच क्रिकेट मैच के बारे में सवाल का बच्चों ने फटाफट जवाब दिये। भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 22 रन से हराया। कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने 92 रन बनाये। यह सब सुनकर मुख्यमंत्री के चेहरे में मुस्कुराहट आ गयी। उन्होने कहा कि जितनी गहरायी से हम क्रिकेट में रूचि लेते हैं, उतना मन लगाकर हम विषयों को भी अध्ययन करें तो पढ़ाई हमें आसान लगेगी।
मुख्यमंत्री ने भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के जीवन के प्रसंग बच्चों को सुनाये। डॉ. कलाम साहब रामेश्वरम में गरीब परिवार में जन्म लेकर विज्ञान के क्षेत्र एवं सार्वजनिक जीवन में शिखर पर पहुंचे। डॉ. कलाम बचपन में पढ़ाई के साथ साइकिल में घुम-घुमकर अखबार बाटने का काम करते थे। वे दीपक की रौशनी एवं सरकारी स्कूल में पढ़कर इंजीनियर, वैज्ञानिक एवं भारत के राष्ट्रपति बने। मुख्यमंत्री ने कहा कि आगे बढ़ने के लिए सकारात्मक सोच एवं दृढ़ इच्छा शक्ति का होना जरूरी है।
मुख्यमंत्री द्वारा पूछे जाने पर कक्षा आठवीं के बच्चों ने बताया कि गणित के शिक्षक श्री धनंजय झा नियमित रूप से क्लास नहीं लेते है। इस पर मुख्यमंत्री ने शिक्षक श्री झा को तलब कर समझाईश दी एवं नियमित रूप से गणित का अध्यापन करने की हिदायत दी। उन्होने कहा कि जब वे जनवरी में दोबारा इस स्कूल में आयेंगे तो बच्चों के गणित समेत सभी विषयों के ज्ञान के स्तर में सुधार दिखनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि गणित को नियमित रूप से रूचिकर तरीके से पढ़ाया जाये, तो यह विषय विद्यार्थियों को आसान लगने लगता है। इसके लिए उन्होने शाला प्रबंध समिति के अध्यक्ष एवं सदस्यों को भी निर्देशित किया।

सोशल मीडिया के जरिए शिक्षा का स्तर सुधारने की पहल

इस दौरान मुख्यमंत्री के द्वारा पूछे जाने पर कक्षा छठवीं के छात्र द्वय रजक और तुषार श्रीवास ने उन्नीस का पहाड़ा पढ़कर सब की शाबाशी पायी। इस दौरान मुख्यमंत्री ने शिक्षकों एवं छात्र-छात्राओं से बातचीत कर डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम शिक्षा गुणवत्ता अभियान के प्रपत्र भी भरे। उन्होने शिक्षकों एवं शाला प्रबंध समिति के सदस्यों को बुलाकर स्टेट स्कूल की ग्रेडिंग में जनवरी तक सुधार करने के निर्देश दिए। इस दौरान राजनांदगांव के लोकसभा सांसद  अभिषेक सिंह, महापौर राजनांदगांव  मधुसूदन यादव, छत्तीसगढ़ भंडार गृह निगम के अध्यक्ष  नीलू शर्मा, कलेक्टर  मुकेश बंसल और पुलिस अधीक्षक  पी सुन्दरराज भी उपस्थित थे।

 

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS