जमाखोरों पर गिरेगी गाज..टिकरा बना राजस्व विवाद मुक्त गांव

sambhagayukat dwara baithak prashikchad ke sambandh me  (5)बिलासपुर—ऋणि कृषकों के लिए फसल बीमा की अवधि 30 सितंबर तक निर्धारित की गई है। मुख्य सचिव विवेक ढांड ने आज वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से निर्देशित किया है कि अधिक से अधिक किसानों का फसल बीमा जोड़ने के लिए प्रचार-प्रसार किया जाए। पटवारी हल्के में कम से कम 06 किसानों का फसल बीमा अनिवार्य रूप से कराया जाए।

               मुख्य सचिव ने प्याज की जमाखोरी रोकने के लिए छापामार कार्यवाही करने और जो भी कार्यवाही संभव हो उसे करने का निर्देश दिया। उचित मूल्य पर प्याज वितरण, राशन दुकानों और अन्य माध्यमों से भी करने का निर्देश दिया। इस मौके पर कलेक्टर अन्बलगन पी. ने बताया कि शहर में 10 थोक विक्रेताओं और 02 कोल्ड स्टोरेज में जांच हुई है। बिलासपुर में प्याज 51 रूपये से लेकर 53 रूपये किलों बेचा जा रहा है। साथ ही शहर के 08 स्थानों पर उचित मूल्य पर प्याज वितरण किया जाना बताया है। मुख्य सचिव ने अरहर दाल के कालाबाजारी पर नजर रखने को कहा है।

                     संभागायुक्त सोनमणि बोरा ने मुख्य सचिव को बताया कि राजस्व समाधान पखवाड़ा के दौरान प्रत्येक गांव में दो-दो बार राजस्व समाधान शिविर का आयोजन किया गया। अभियान के दौरान 18 हजार नामांकन के आवेदनों में से 16 हजार का निराकरण किया गया । संभाग में 13 लाख से अधिक खातेदार हैं। वन अधिकार पत्रों के सत्यापन का कार्य भी इस दौरान किया गया। चांदा मुनारा का सत्यापन कराया गया। जिन गांवों में गुम हो गये थे वहां नये बनाये गये है।

       अतिक्रमण के 2200 प्रकरण निराकृत किये गये। इसी तरह आबादी पट्टा भूमि का प्रकरण भी निराकृत किया गया। उन्होंने बताया कि न्यायालयीन प्रकरणों के निराकरण में भी तेजी लाई गई है। संभाग में 90 प्रतिशत राजस्व प्रकरणों के निराकरण कर लिया गया है। की स्थिति है। संभागायुक्त ने मुख्य सचिव को बताया कि जांजगीर जिले के हाथी टिकरा ग्राम को पूर्ण रूप से राजस्व विवाद मुक्त ग्राम घोषित किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.