मेरा बिलासपुर

जागरूकता की जंग से रैबीज पर लगाम-वोरा

rabiz 2

    बिलासपुर—लुई पाश्चर की पुण्यतिथि पर सोमवार को  स्थानीय राघवेन्द्र राव सभा भवन में निःशुल्क रैबीज टीकाकरण एवं स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया। इस मौके पर संभागायुक्त  सोनमणि बोरा ने कहा कि रैबीज जैसी घातक बीमारी की लड़ाई जागरूकता से ही जीती जा सकती है। उन्होने कैनाल क्लब और पशु चिकित्सा विभाग  को इस सराहनीय कार्य के लिए साधुवाद दिया।
संभागायुक्त ने कहा कि आम नागरिक जो देर रात घर लौटते हैं या  मार्निंग वाक पर निकलते हैं उनके लिए सड़को पर घूमने वाले कुत्ते खतरनाक हो सकते हैं। ऐसे कुत्तों का नसबन्दी एवं टीकाकरण आवश्यक है। बिलासपुर में डाग हाउस भी होना चाहिए। सुरक्षा की दृष्टि से सड़क पर घूमने वाले कुत्तों के लिए सुरक्षित रखने का स्थान की व्यवस्था जरूरी है। पशुओं को भी जीने का अधिकार है। कई महानगरों में डाग हाउस की अच्छी व्यवस्था है। ऐसे दिवस की सार्थकता रैबीज के नियंत्रण के साथ कुत्तों को सुरक्षा देना भी है।

                        संयुक्त संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं बिलासपुर ने विश्व रैबीज दिवस और रैबीज बीमारी के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि प्रसिद्ध वैज्ञानिक लुई पाश्चर के पुण्यतिथि पर विश्व रैबीज दिवस की शुरूवात की गई है। उन्होने बताया कि विश्व में रैबीज से बड़ी संख्या में लोगों की मौत हो जाती है। डा. ध्रव  ने रैबीज सप्ताह में किये जाने वाले कार्यक्रम के बारे में उपस्थित लोगों को जानकारी देते हुए कहा कि सभी पशु चिकित्सालयों में आज के दिन निःशुल्क रैबीज टीकाकरण और स्वास्थ्य परीक्षण कार्यक्रम रखा जाता है। रैबीज की जागरूकता के लिए स्कूलों में भी कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं।
उन्होने बताया कि  रैबीज पशुओं से मनुष्य में एवं मनुष्य से पशुओं में फैलती है। इस बीमारी के विषाणु रैबीज युक्त पशुओं के लार में पाये जाते हैं। जो अन्य पशुओं को काटने से स्वस्थ्य पशुओं में भी फैल जाते हैं। यह बीमारी रैब्डोवाइरस से होती है।  इसे आयोडीन,फिनाल,डेटाल, सेवलान और एल्कोहल से ही निष्क्रिय किया जा सकता है। रैबीजग्रस्त कुत्ता,बिल्ली, बंदर,सियार, लोमड़ी,लकड़बग्धा एवं और कार्निवोरस पशुओं के काटने से होती है। शिविर में बड़ी संख्या में कुत्ता पालकों ने अपने कुत्तों का एन्टी रैबीज टीकाकरण करवाया। इस अवसर पर संभागायुक्त ने पालकों को डाग फुड के पैकेट भी वितरित किये।

मैन गधे को गधा कहा,घोडा नहीं-आरके

rabize 1

कार्यक्रम स्थल पर “बीरवैक फार्मास्युटिकल” मुम्बई द्वारा स्वस्थ्य परिक्षण और साहित्य की व्यवस्था की गई थी।उपस्थित पशु पलकों के जिसे निशुल्क वितरित किया गया। बीरवैक पेडिग्री द्वारा श्वानों के लिए निःशुल्क खाद्य पैकेट की व्यवस्था की गई थी।

कार्यक्रम में पशु चिकित्सा विभाग से डॉ राम ओचलवार, डॉ रितेश स्वर्णकार,डॉ अनिमेष जैसवाल,डॉ ओ पी तिवारी,डॉ बी.एस. सलाम,श्री जे.के.जायसवाल,श्री महेश राम,श्री ओ.पी. मिश्रा ने अपनी सेवायें दी।बिलासपुर कैनाइन क्लब से  श्री सुब्रतो मोइत्रा, आशीष बाली उपाध्याय,शिवेश कटेलिया,सव्हिव शैंकी अरोरा,सहसचिव दीपक लालचंदानी, कोषाध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी,विवेक यादव,बलदेव देवांगन,संतोष नायडू,शान कुमार,चंद्रकुमार सोनी,अमित बख्श,मोंटी सोनी,हैप्पीअरोरा,देवेन्द्र नायडू,विकास कौशिक ने अपनी सेवाएं दी। कार्यक्रम का संचालन डॉ ओ.पी. तिवारी ने किया।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS