मेरा बिलासपुर

जागरूकता पैदा करना सामुहिक जिम्मेदारी–वोरा

niveshak jagrukata kariyashala  (1)बिलासपुर—निवेशक जागरूकता अभियान कार्यशाला को संभागायुक्त सोनमणि बोरा ने संबोधित करते हुए कहा कि आम निवेशक अपनी मेहनत की ऐसे कंपनी में निवेश करें जो आर्थिक रूप से संपन्न हो। उन्हेंने कहा कि आम गरीब निवेशक चिट-फंड जैसी कंपनी में पूंजी लगाकर ठगी के शिकार होते हैं। हमारे देश में ऐसी कई कंपनियां समाचार पत्रों में लुभावने विज्ञापन देकर निवेशकों को धोखा देकर जमा पूंजी को लेकर भाग जाती है। निवेशकों को ठगी से कैसे बचाया जा सकता है, इसकी समीक्षा की जरूरत है। संभागायुक्त ने कहा कि ऐसे जागरूकता कार्यक्रमों के साथ पुलिस को जोड़ना होगा। इसमें पुलिस की बहुत बड़ी भूमिका हो सकती है।

     संभागायुक्त बोरा ने कहा कि आम निवेशकों को बड़ी एवं लिस्टेड कंपनियों की सही जानकारी नहीं होती। इसके लिए उन्हें जागरूक करने ऐसे ही प्रयासों की जरूरत है। आर्थिक सुदृढ़ता के लिए निवेशकर्ता आर्थिक मंदी में शेयर गिरने से संशय में आ जाता है। लोगों में बचत करना उनकी जन्मजात आदत है पर उसे जमा करने के लिए बैंक के सिवाय उन्हे निवेश करने की अन्य जानकारी नही होती। अब शासन की जनधन जैसी योजना के माध्यम से बैंक से जुड़ रहे है। उनमें बैंक और निवेश के लिए माहौल पैदा करने की जरूरत है। यह हमारी सामाजिक जिम्मेदारी है।

         संभागायुक्त ने कहा कि उन्हे संशय की प्रवृति से उपर उठाकर जागरूकता पैदा करनी होगी। उन्होंने कहा कि भारत में विदेशी निवेशक आ रहे हैं। निवेश का क्षेत्र बढ़ा है। निवेशकों के लिए यह चुनौती है कि वे अपने जीवन भर की पूंजी ऐसी जगह निवेश करें जहां सुरक्षा हो।

डा. कलाम ने मुझे कहा था - " डू इट सिंशेयरली वर्क ''

                दि इंस्टीट्यूट आफ चाटर्ड इंडिया आई.सी.ए.आई बिलासपुर और जिला प्रशासन के सहयोग से स्थानीय देवकीनदंन दीक्षित सभागृह में निवेशक जागरूकता कार्यशाला आयोजित की गई। आई.सी.ए.आई बिलासपुर ब्रान्च के चेयरमेन चाटर्ड एकाउन्टेन्ट राजुल जाजोदिया ने स्वागत भाषण में जागरूकता कार्यक्रम की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि निवेशकों में जागरूकता केवल सरकारी पहल से नहीं हो सकती, बल्कि शासन, समाज के साथ सभी वर्गों की सामूहिक प्रयासों की आवश्यकता है। राजुल ने कहा कि आर्थिक विकास के लिए उद्योग कंपनियां और उन्हें स्थायित्व देने के लिए निवेशक दोनों महत्वपूर्ण पहलू हैं। निवेशकों को जागरूक करने की जिम्मेदारी स्थानीय प्रशासन के साथ हमारी भी है। इसीलिए यह जागरूकता कार्यक्रम रखा गया है।

         इस अवसर पर छत्तीसगढ़ लघु एवं सहायक उद्योग संघ के अध्यक्ष हरीश केडिया ने कहा कि निवेशकों की जागरूकता के लिए संयुक्त प्रयासों की आवश्यकता है। निवेशक ठगी के शिकार न हो, इसके लिए संगठित होकर वातावरण बनाने की जरूरत है। केडिया ने कहा कि हर क्षेत्र में ठगी हो रही है। आर्थिक क्षेत्र भी अछूता नहीं है। कई कंपनियां रातों-रात खोली जाती है। विज्ञापन दिए जाते हैं। निवेशक की जमा पूंजी लेकर भाग जाते हैं। ऐसी स्थिति में ठगी से बचने के लिए आवश्यक कदम उठाना जरूरी है। रजिस्ट्रार आफ कंपनी आर.के.साहू ने कहा कि निवेशक राशि निवेश करने के पूर्व कंपनी की आर्थिक हालात जानकर ही निवेश करें। कंपनी का टर्न ओव्हर बेहतर होना चाहिए।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS