जिपं सामान्य सभाः जमकर बरसे प्रतिनिधि

IMG_20160226_144104बिलासपुर– जिला पंचायत में आज कुछ गरम और नरम अंदाज में सामान्य सभा की बैठक हुई। जनप्रतिनिधियों ने अध्यक्ष और सीईओं के सामने अधिकारियों की जमकर शिकायत की। मनरेगा,शौचालय,वन,पीडब्लूडी के कामों को लेकर असंतोष जाहिर किया।विभागीय अधिकारियों से कार्यों का हिसाब भी मांगा।

                      जिला पंचायत सामान्य सभा की बैठक में आज जनप्रतिनिधियों ने क्षेत्र में किये जा रहे कार्यों के प्रति नाखुशी जाहिर की है। सदस्यों ने  जिला पंचायत अध्यक्ष पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए कहा कि बार बार शिकायत के बाद भी अधिकारियों पर उन्होंने कभी काम के लिए दबाव नहीं बनाया। जिसके चलते अधिकारी अपनी मनमानी से बाज नहीं आ रहे हैं।

                                इस मौके पर स्वच्छ भारत मिशन की शौचालय योजना पर बहस हुई। कई जनप्रतिनिधियों ने शौचालय निर्माण में राशि कटौती किये जाने का विरोध किया । सीईओ जय प्रकाश मौर्य ने बताया कि शौचालय निर्माण राशि में कटौती नहीं की गयी है। शौचालय निर्माण के समय 9 हजार रूपए दिये जा रहे हैं। शेष तीन हजार रूपए शौचालय बनने के बाद दिया जाएगा। मौर्य ने कहा कि कई जगह शौचालय निर्माण में गड़बड़ी की शिकायत मिली है। उनकी जानकारी ली जा रही है। सरपंचों के साथ बैठक होगी। मौर्य ने बताया कि जहां खनिज संसाधन हैं ऐसे क्षेत्रों के सरपंचों को कहा जाएगा कि वे रेत या अन्य खनिजों से मिली रायल्टी से गांवों  में शौचालय का निर्माण कराये।

                     बैठक में जनप्रतिनिधियों ने आबकारी अधिकारी पीसी अग्रवाल से जवाब मांगा कि कार्रवाई के बाद भी शराव के अवैध कारोबार में कमी क्यों नही आ रही है। ज्ञानेन्द्र उपाध्याय,योगेश यादव,जगदीश कौशिक समेत कई जनप्रतिनिधियों ने बताया कि आबकारी की सुस्त कार्यप्रणाली ने कोचियों और निजी शराब व्यवसायियों को बढावा दिया है। जनप्रतिनिधियों ने कहा कि सीपत,गतौरी,बरतोरी,नंगाराडीह में शराब व्यवसायियों ने जीना हराम कर दिया है।

                           सदस्यों ने कहा कि निजी शराब व्यवसायियों के इशारे पर आबकारी विभाग छापामार कार्रवाई करती है। जिनके घर में शराब का जखीरा होता है उन्हें छोड़कर विरोध करने वालों को निशाना बनाया जाता है। योगेश यादव ने कहा कि बिल्हा क्षेत्र में शराब की अवैध बिक्री जोरों पर है . लेकिन किसी प्रकार की कार्रवाई नही की जा रही है।  सीपत में अवैध जमीन पर शराब का व्यवसाय किया जा रहा है। लेकिन आबकारी अधिकारी को खबर नही है।

                    जनप्रतिनिधियों ने कहा कि अपनों को छोड़कर शराब मामले में कार्रवाई की जा रही है। आबकारी अधिकारी ने कहा कि अवैध शराब करने वालों के खिलाफ कार्रवाई हो रही है। अभी तक सवा सौ लोगों को सलाखों के पीछे भेजा जा चुका है। आगे भी होती रहेगी। उन्होने कहा कि सभा में जिन क्षेत्रों में शराब की अवैध बिक्री का मामला सामने आया है। उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *