जीवन रक्षक एवं गुणवत्तापूर्ण दवाईयों और चिकित्सा उपकरणों की खरीदी प्राथमिकता के तौर पर की जाए-अजय चन्द्राकर

रायपुर।स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री अजय चन्द्राकर ने बुधवार को छत्तीसगढ़ मेडिकल सर्विसेस कार्पोरेशन(सीजीएमएससी) के कार्यो की प्रगति की समीक्षा की।स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि दवाईयों और चिकित्सा उपकरणों की खरीदी में जीवन रक्षक एवं गुणवत्तापूर्ण दवाईयां प्राथमिकता के तौर पर खरीदना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि कहा कि कार्पोरेशन किसी भी स्थिति में गुणवत्ताहीन दवाईयां और चिकित्सा उपकरणों की खरीदी न करें। स्वास्थगत जन सुविधाओं से जुड़ी हुई नीतिगत विषय लंबित न हो। ऐसे विषयों पर जनहित को ध्यान में रखते हुए शीघ्र निर्णय लिया जाए। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि मांग के अनुसार ही जितनी जरूरत है, उतनी ही दवाईयां एवं उपकरण की खरीदी की जाए। मेडिकल काउंसिल ऑफ इण्डिया के मापदण्ड के अनुरूप आवश्यक चिकित्सा उपकरणों और दवाईयों की खरीदी सुनिश्चित हो। उन्होंने नियमानुसार सभी वेंडरों का समय-सीमा में भुगतान करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

चन्द्राकर ने बैठक में कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूती प्रदान करने के लिए छत्तीसगढ़ मेडिकल सर्विसेस कार्पोरेशन का गठन किया गया है। अतः दवाईयां और उपकरणों की खरीदी में जनहित के अलावा व्यक्तिगत रूचि का कोई स्थान नहीं होना चाहिए। दवाईयां और उपकरणों की खरीदी में यदि कहीं कमी दिखाई देती हैं तो अधिकारी उसे आपस में समन्वय कर कमी को पूरा करें। उन्हांेने चिकित्सा शिक्षा विभाग, संचालक स्वास्थ्य सेवाएं और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों के द्वारा मांग के आधार पर उसी अनुरूप में क्रय करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

अधिकारियों ने बैठक में बताया कि मेडिकल कार्पोरेशन द्वारा मार्च 2018 की स्थिति में  वित्तीय वर्ष 2017-18 में 132 करोड़ 24 लाख रूपए की 379 प्रकार की दवाईयां क्रय कर वितरित की गई। गत वित्तीय वर्ष में 114 करोड़ 82 लाख रूपए की 437 दवाईयां उपलब्ध करायी गई। इसी प्रकार चिकित्सा शिक्षा विभाग को 17 करोड़ 42 लाख रूपए की 399 दवाइयां उपलब्ध करयी गई। आयुष विभाग को 97 करोड़ 57 लाख रूपए की दवाइयां एवं उपकरण उपलब्ध कराए गए। अधिकारियों ने अधोसंरचना विकास के संबंध में बताया कि कुल स्वीकृत 1257 कार्यों में 603 कार्य पूर्ण कर लिए गए हैं तथा 394 कार्य प्रगति पर है। बैठक में स्वास्थ्य विभाग की सचिव निहारिका बारिक, संचालक स्वास्थ्य सेवाएं रानू साहू, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के प्रबंध संचालक डॉ. सर्वेश्वर भूरे, संचालक चिकित्सा शिक्षा  डॉ. ए.के. चन्द्राकर, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के संचालक डॉ. आर. आर. साहनी, सीजीएमएसी के प्रबंध संचालक व्ही. रामाराव, डी.के.एस. अस्पताल के अधीक्षक डॉ. पुनीत गुप्ता सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *