जोगी का दावा -हमारी सरकार बनी … तो नहीं पड़ेगी किसी को हड़ताल की जरूरत

 रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे.) के संस्थापक एवं पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में अपनी जायज मांगो के लिये शासकीय कर्मचारी एवं पीड़ित जनता को धरना प्रदर्शन जैसे आन्दोलन करने के लिये प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा मजबूर कर दिया गया है। सभी शहरों में धरना प्रदर्शन के लिये आरक्षित स्थल में कोई दिन ऐसा नही गुजरता जिस दिन कोई न कोई वर्ग धरने पर न बैठा हो। प्रदेश में कोई वर्ग संतुष्ट नही है। सभी वर्ग अपनी मांगो एवं समस्याओं को लेकर आन्दोलनरत है। प्रदेश में किसान, शिक्षाकर्मी, मितानिन, दैनिक वेतनभोगी, स्वास्थ विभाग की नर्से एवं रसोईया वर्ग उपेक्षा, महंगाई और सरकार की प्रताड़ना से तंग आकर आन्दोलन करने बाध्य है।
20 लाख बेरोजगार भाजपा की आउटसोर्सिग नीति के कारण बेरोजगारी का दंश झेल रहे है। प्रदेश में सभी वर्ग बेचैन नजर आते है चारों तरफ असंतोष की चीख पुकार सुनाई दे रही है।
श्री जोगी ने आन्दोलनरत शासकीय कर्मियों एवं प्रताड़ित जनता को आश्वस्त करते हुये वचन दिया है कि जकांछ सरकार में किसी वर्ग को अपनी मांगों के लिये हड़ताल या धरने पर बैठने की जरूरत नही पडे़गी।
छत्तीसगढ़ हड़ताल मुक्त प्रदेश बनने जा रहा है। क्षेत्रीय दल की सरकार की यह खासियत है कि समस्याओं का त्वरित समाधान स्थानीय स्तर पर ही हो जायेगा। उसे किसी हाईकमान से आज्ञा लेने या पूछने की जरूरत नही होगी। हड़तालरत सभी आन्दोलनकारियो की जायज मांगो का जकांछ के सत्ता रूढ़ होने के तीन दिन के अन्दर कर दिया जाएगा। सभी को सुकून एवं निश्चितता मिलने में देर नही लगेगी। समस्याओं एवं मांगो का निराकरण जकांछ की प्राथमिकता में शुमार है।
 जोगी ने कहा है कि प्रदेश की रमन सरकार विकास एवं सुशासन का थोथा प्रचार करने खर्चीली यात्राएं निकालने में व्यस्त है वही दूसरी ओर नक्सली समस्या से निपटने में नाकाम भाजपा सरकार में जवानों की शव यात्राओं का सिलसिला रूकने का नाम नही ले रहा है।
भाजपा सरकार शहीदों को श्रद्धांजली एवं मुआवजा देकर अपने कर्तव्य की इतिश्री मान लेती है। प्रदेश में अपराधिक एवं नक्सली दहशत का माहौल चहुओर व्याप्त है। जनता को अपनी सुरक्षा एवं छत्तीसगढ़िया का विकास चाहिये इसके लिये गैरवाजिब विकास यात्राओं के स्थान पर छत्तीसगढ़िया के विकास की योजनाओं के द्वार खोलने चाहिये जो विगत 15 वर्षो से भाजपा खोल पाने में असहाय सिद्ध हो चुकी है।
सरकार तो केवल भाजपा संगठन एवं भाजपाईयों के विकास को ही अपनी प्राथमिकता समझती है और इस दिशा में भारी-भरकम दिखावे की योजनाओं पर ही ध्यान केन्द्रित करती है क्योकि उसमें भरपूर कमीशन प्राप्त होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *