टिकट को लेकर जनता कांग्रेस में घमासान…प्रत्याशियों ने किया गठबंधन का विरोध..लगाया तानाशाही का आरोप

बिलासपुर— गठबंधन के बाद जनता कांग्रेस प्रत्याशियों में जमकर घमासान है। आज रायपुर स्थित सागौन बंगले में जनता कांग्रेस नेताओं ने अजीत जोगी का घेराव किया। पार्टी पर भाई भतीजावाद का आरोप लगाते हुए कहा कि जब उनके नाम का एलान पहले ही कर दिया गया था…तो ऐसे में उनकी सीट को दिया जाना उचित नहीं है। जानकारी के अनुसार बागी नेताओं ने बसपा प्रत्याशियों को समर्थन देने से भी इंकार कर दिया है।

                       रायपुर स्थित सागौन बंगले में अकलतरा के संभावित पार्टी प्रत्याशी के चन्द्रपुर,नवागढ़ और कसडोल के प्रत्याशियों ने पार्टी हाईकमान के फैसले का विरोध किया है।

            मालूम हो कि बसपा से गठबंधन करने से बहुत पहले जोगी कांग्रेस प्रमुख अजीत जोगी ने प्रदेश के 90 में से 42 प्रत्याशियों का एलान किया था। गठबंधन के बाद प्रदेश की 90 में से 35 सीट बसपा के खाते में गयी है। कई सीट ऐसी हैं जहां जनता कांग्रेस ने बहुत पहले प्रत्याशियों का फैसला किया जा चुका है। कुछ सीटे ऐसी भी हैं जहां पार्टी सुप्रीमों ने संभावित प्रत्याशियों को टिकट देने का एलान किया था। लेकिन गठबंधन के बाद संभावित ही नहीं बल्कि ऐसी सीटें भी बसपा के खाते में चली गयी हैं जहां प्रत्याशियों के नाम का एलान भी किया जा चुका है।

              आज सागौन बंगले पहुंचकर बागी प्रत्याशी और संभावित प्रत्याशियों ने पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। अजीत जोगी का घेराव कर प्रत्याशियों ने बताया कि उनके साथ आर्थिक और भावनात्मक छल किया गया है। यह जानते हुए भी कि हम चुनाव की तैयारी कर चुके हैं..ऐसे में सीट को बसपा को देना पार्टी हित में नही है।

              मालूम हो कि कुछ महीने पहले अजीत जोगी ने चन्द्रपुर से गीतांजली पटेल, नवागढ़ से किशन रात्रे, कशडोल से यादव को पार्टी प्रत्याशी बनाया गया था। इसके अलावा अकलतरा सीट से संदीप यादव को टिकट देने का एलान किया था। अब यह सीटे बसपा के खाते में जा चुकी हैं। इस बात को लेकर पार्टी नेताओं में जबरदस्त आक्रोश है।

                          बताया जा रहा है कि कुछ नेताओं ने जनता कांग्रेस के बड़े नेताओं पर आरोप लगाया है कि परिवार वाद के चलते पार्टी को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा। यदि पार्टी के बड़े नेता प्रत्याशियों के साथ धोखा करते हैं तो बेतहर होगा कि वे लोग पार्टी से ना केवल दामन छुड़ाएंगे ..बल्कि दूसरी पार्टी की तरफ रूख करेंगे। फिलहाल बागियों को मनाने का प्रयास किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *