ठेकेदार-अधिकारियों में मिलीभगतःपीएमजीएसवाय में करोड़ों का घोटाला…अंकित

IMG-20170516-WA0037बिलासपुर—जिले में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत बनाई गयी सड़कों में करोड़ों रूपए का घोटाला हुआ है। जनता कांग्रेस नेता अंकित गौरहा ने दावा किया है कि सत्र 2010-11 से 2015-16 में दो ब्लाकों के विभिन्न जगहों में बनाई गयी सड़कों में ठेकेदार और अधिकारी मिलीभगत कर करोड़ों रूपए का वारा-न्यारा किया है। अंकित गौरहा ने बताया कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के 13 वें वित्त और राज्य मद से सड़क नवीनीकरण के कार्यो में अधिकारियों ने जमकर भ्रष्टाचार किया है। अधीक्षण अभियंता ए.के.राही, एस.एन पाठक, वरूण राजपूत,सहायक अभियंता लोलेन एक्का समेत सीमांत तिवारी, उप अभयंता रिचा शाही, मिरा सिंह नेताम रमेश चन्द्र साहू,चन्द्रकांत शुक्ला का प्रमुख हाथ है। अंकित ने बताया कि अधिकारियों ने ठेकेदार से मिलकर सात करोड़ रूपए से अधिक राशि फर्जी बिल बनाकर सरकार को चूना लगाया है।

                           अंकित गौरहा ने मीडिया को बताया कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत अधिकारियों ने शासन को करोड़ों रूपए का चूना लगाया है। बिना सड़क बनाए और लीपापोती कर इंजीनियरों ने सात करोड़ से अधिक राशि का फर्जी बिल बनाकर गबन किया है। अँकित ने कहा कि मैं होश हवास में इंजीनियरों और ठेकेदारों पर भ्रष्टाचार करने का आरोप लगा रहा हूं। मैने आरटीआई से मेजरमेन्ट एमबी,बिल एमबी,एक्स्ट्रेक्ट एमबी निकाला है। प्राक्कलन से मिलान करने पर घोटाला सामने आया है।

चुनकर दिया ठेका…शिकायत बेअसर

            अंकित के अनुसार 2010-11 से 2015-16 के बीच सुनियोजित तरीके से अधिकारियों ने अग्रवाल इन्फ्राबिल्ड और मेंसर्स बिटुमैक को ठेका दिया। दोनों कम्पनियों को फायदा पहुंचाने के लिए अधिकारियों ने नियमों को ताक पर रख 10 करोड़ रूपए दिये। दोनों फर्मों ने जितने भी सड़क बनाए…सभी सड़कें एक साल के अन्दर बरबादी हो गयीं। शिकायत और विभागीय जांच के बाद भी दोनों कंपनियों पर किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं हुई है।

                                                      अंकित ने बताया कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के पूर्व कार्यपालन अभियंता एस.एन.पाठक के घर एसीबी ने छापामार कार्रवाई के दौरान अनुपात से अधिक सम्पत्ति बरामद किया गया था। साल के शुरूआत में आयकर विभाग की कार्रवाई में इन्फ्राबिल्ड लिमिटेड के मालिक रामअवतार अग्रवाल के ठिकानों से करोड़ों में अघोषित सम्मत्ति बरामद हुआ था। आयकर की टीम ने रामअवतार के भाइयों के भी ठिकानों पर दबिश दी थी। टीम को खाली हाथ नहीं लौटना पड़ा था।

                                                    जनता कांग्रेस नेता गौरहा के अनुसार अधीक्षण अभियंता ए.के.राही.एस.एन.पाठक,वरूण राजपूत.लोलेन एक्का,सीएन भारद्वाज,सीमांत तिवारी,रिचा शाही,मीरा सिंह,रमेश चन्द्र,चन्द्रकांत तिवारी ने ठेकेदारों के साथ मिलकर गुणवत्ताहीन सड़क का निर्माण किया है। बनाई गयी सभी स़ड़कें पहली बरसात में बह चुकी हैं। सड़कों में गुणवत्ताहीन सामाग्रियों का प्रयोग किया गया था। ठेकेदारों ने पुरानी सड़कों पर थूक पालिश कर सात करोड़ से अधिक रूपयों का बंदरबांट किया।

              अग्रवाल इन्फ्राफिल्ड और मेसर्स बिटुमैक कंस्ट्रक्शन प्रायवेट लिमिटेड कंपनी के मालिकों ने दस करोड़ में से केवल तीन करोड़ रूपए खर्च किए।

      सीजी वाल को एमबी की कापी देते हुए अंकित ने कहा कि किन सड़कों में कितना भुगतान किया गया। इसकी हार्डकापी मेरे पास है। सड़क देखने के बाद हार्डकापी में बताए गए खर्च में जमीन आसमान का अंतर है। अंकित ने पत्रकारों के  बीच हार्डकापी का भी वितरम किया।

एमबी के अनुसार अग्रवाल इन्फ्राबिल्ड को सडक नवीनीकरण भुगतान 

                              एमबी के अनुसार 2010-11 से 2015-16 में मस्तूरी क्षेत्र में सभी सड़कों का नवीनीकरण काम अग्रवाल इन्फ्राबिल्डको दिया गया। आरटीआई से हासिल  एमबी के अनुसार जाजी नवागांव से मुडापार सड़़क में 35.38 लाख रूपए,  सीपत नवागांव से मचखण्डा सड़क में 80.65 लाख रूपए, बिलासपुर-बलौदा रोड से ऊनी सड़क 44.71 लाख रूपए, सोढ़ी से जुहली सड़क निर्माण में 45.15 लाख रूपए , जयरामनगर से रॉक स़डक में 141.04 लाख, निरतु से आमानार सड़क में 121.87 लाख रूपए और जोंधरा से भिलौनी सड़क में कुल 35.39 लाख रूपए खर्च किये गये। सभी सड़कें बनने के एक साल के भीतर गायब हो गयीं।

एमबी के अनुसार बिटुमैक कंस्ट्रक्शन को सडक नवीनीकरण भुगतान

एमबी के अनुसार 2010-11 से 2015-16 में तखतपुर क्षेत्र में सभी सड़को का निर्माण बिटुमैक ने किया। मेनरोड एच.एस-7 से चितावर सड़क निर्माम में 63.23 लाख, मोछ रोड से खैरी सड़क में 6.21 लाख, जूनापारा कंचनपुर से अधरियापारा सड़क निर्माण में 32.28 लाख रूपए खर्च हुए। इसी तरह खपरी करगी रोड से घोरामार सड़क में 20.01 लाख, मरहीकापा मेन रोड से बेलटुकरी में 3.97 लाख, खपरी करगी रोड से साल्हेकापा सड़क नवीनीकरण और निर्माण में 18.97 लाख, सकरी से दलदहियापारा स़ड़क 9.55 लाख रूपए से बनाया गया। बिलासपुर कोटा रोड से चोरभठ्ठी सड़क में 18.90 लाख, मेड़पार से सकेती सड़क में 82.39 लाख और घुरू मेन्ड्रा से पांड़ के बीच सड़क में 79.48 लाख रूपए खर्च हुए।

सभी सड़कों की हालत खस्ता

                     जनता कांग्रेस नेता अंकित गौरहा ने बताया कि सभी सड़कें बद से बदतर स्थिति में हैं। सड़कों में कुल राशि का केवल 25 प्रतिशत ही खर्च हुआ। अधिकारियों से बार बार शिकायत के बाद भी ध्यान नहीं दिया गया। बहरहाल सड़कों पर चलना मुश्किल हो गया है।अंकित ने बताया कि दोनों कंपनियों ने इसके अलावा इन सड़कों के नवीनीकरण करने के लिए एडिश्नल में करोड़ों रूपए आहरण किया। लेकिन काम  ही नहीं किया। बावजूद इसके अधिकारियों ने मिलकर बिना परीक्षण और निरीक्षण के एमबी काट दिया। इस तरह सड़कों के बिना नवीनीकरण करोड़ों रूपए का वारा-न्यारा कर दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *