दबोइया के 14 बच्चे

IMG-20150703-WA0007बिलासपुर— शनिवार को कानन पेन्डारी में दुनिया के विषैले सर्पों में से एक रसल वाइपर ने अपने कुनबे का विस्तार किया है। रसल वाइपर रेप्टाइल वर्ग का जरायुज प्राणी है। उसने आज 14 बच्चों को जन्म दिया है। सभी सपोलों को स्नैक हाइबरनेशन कक्ष में रखा गया है। बताया जा रहा है कि सभी स्वस्थ्य हैं।

           कानन पेण्डारी में शनिवार को रसल वाइपर ने एक साथ 14 सपोलों को जन्म दिया है। सभी स्वस्थ्य हैं। इन्हें हाइबरनेशन कक्ष में रखा गया है। कुछ दिन बाद सभी बाहर आ जाएंगे

                 रसल वाइपर की दुनिया में विषैले सर्पों में गिनती है। यह जरायुज रेप्टाइल होता है। सीधे बच्चों को जन्म देता है। कानन प्रबंधन से मिली जानकारी के अनुसार दूसरी बाद है कानन पेण्डारी में रसल वाइपर ने बच्चों को जन्म दिया है।

रसल वाइपर मतलब दबोइया

छ्त्तीसगढ़ में रसल वाइपर बहुत पाये जाते हैं। इसे स्थानीय भाषा में दबोइया भी कहा जाता है।शनिवार को दबोइया ने 14 बच्चों को जन्म दिया। जिन्हें सुरक्षा में लिया गया है। जल्द ही सपोले बाहर आएंगे।

                                                                                         टी.आर.जायसवाल..रेंजर कानन पेण्डारी..बिलासपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published.