दिनचर्या में ग्रीनचर्याः कुलपति ने कहा.. सीएमडी एनएसस इकाई ने रचा इतिहास..सीएम की महत्वाकांक्षी योजना को किया साकार

बिलासपुर—बीते दिनों सीएमदुबे स्नातकोत्तर महाविद्यालय बिलासपुर की एनएसएस  इकाई ने  गोद ग्राम नेवसा में मुख्यमंत्री की महत्वकांक्षी योजना दिनचर्या में ग्रीनचर्या कार्यक्रम आयोजन किया। कार्यक्रम में विशेष रूप से अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर जी.डी.शर्मा शामिल हुए। कुलपति ने एनएसएस इकाई के प्रयास से स्थापित नर्मदेश्वर मंदिर में रूद्राभिषेक किया। साथ ही प्रदेश और छात्र छात्राओं के सुखद भविष्य की कामना की।

                   मुख्यमंत्री की महत्वाकांक्षी योजना दिनचर्या में ग्रीनचर्या का कार्यक्रम  का आयोजन बीते दिनों नेवसा में किया गया। बताते चलें कि नेवसा गांव सीएमडी महाविद्यालय के एनएसएस इकाई ने गोद लिया है। एनएसएस इकाई के छात्र को-आर्डिनेटर डॉ.पीएल चन्द्राकर की अगुवाई में नेवसा गांव में लगातार ग्रामीण विकास को लेकर नई परिभाषा गढ़ रहे हैं।

                 नेवसा मेें आयोजित दिनचर्या में ग्रीनचर्या कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर गौरीदत्त शर्मा ने शिरकत किया। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के तौर पर डॉ मनोज सिन्हा समन्वयक राष्ट्रीय सेवा योजना डॉ संजय तिवारी जिला संगठक राष्ट्रीय सेवा योजना और नेवसा ग्राम पंचायत के उपसरपंच गेंद राम यादव मौजूद थे।

                मुख्य अतिथि प्रोफेसर जीडी शर्मा ने सर्वप्रथम एनएसएस इकाई के सहयोग से स्थापित नर्वदेश्वर मंदिर में रुद्राभिषेक किया। उन्होने इस दौरान उपस्थित लोगों को कोरोना महामारी के संक्रमण से बचाव के उपाय बताये। साथ ही मास्क का वितरण भी किया।

            कुलपति प्रोफेसर शर्मा ने कहा कि प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल ने सभी लोगों से कहा है कि दिनचर्या में ग्रीनचर्या के प्रचार प्रसार के लिए बारी में मुनगा रोपण करें। इसी क्रम में एनएसएस इकाई ने नेवसा में बेहतर कार्यक्रम का आयोजन कर शामिल होने का अवसर दिया है।

                           कुलपति शर्मा ने इस दौरान सभी लोगों के बीच मुनगा पौधे का वितरण किया। साथ ही एनएसएस छात्रों के प्रयास से तैयार फलोद्यान में मूंगा अमरुद सीताफल पीपल और बरगद के पौधे का रोपण किया। इसके अलावा एनएसएस इकाई के प्रयास से पिछले साल बनाए गए तालाब में पोषण स्तर विकास और  आर्थिक प्रगति को प्रोत्साहित करने रोहू कतला मछली का भी रोपण किया।

       कुलपति जीडी शर्मा ने उपस्थित लोगों को बताया कि ग्रामीण जीवन में तलाब का अपना अलग ही  महत्व है। जल संग्रहण के चलते  फल फूल जड़ी-बूटी भाजी सभी हासिल हो जाते हैं।  बारी और तलाब ग्रामीण जीवन की दो बड़ी विशेषताएं है। सदियों से बारी, खुले मैदान और तालाब के आस पास बेर जामुन नीम इमली आम पीपल बरगद समेत कई प्रकार के फलदार और औषधि पौधों का रोपरण करते आए हैं। 

          कलपति ने बताया कि ग्रामीम जीवन हमेशा से स्वावलम्बी रहा है। विभिन्न प्रकार की सब्जी भाजी उत्पादन किया जाता रहा है। कमोबेश यह व्यवस्था आज भी कायम है। तुलसी दौना  ग्रामीण जीवन का अविभाज्य अंग है। दुर्भाग्य है कि आज कई कारणों से लोग बारी और तालाब से मुंह मोड़ने लगे हैं। दिनचर्या में ग्रीन चरिया योजना से बारी और तालाब की प्राचीन परंपरा पुनर्जीवित होगी ।

              उन्होने कहा कि इस प्रकार का आयोजन होते रहना चाहिए। सीएमदुबे स्नातकोत्तर महाविद्यालय की एनएसएस इकाई ने नेवसा में बहुत अच्छा काम किया है। प्रदेश ही नही देश के छात्रों के लिए मिसाल है।  जल संरक्षण अभियान शौचालय निर्माण कार्य आज देश के लिए मिसाल बन गया है। 

            आयोजन में उपस्थित सभी अतिथियों का आभार डॉ केके शुक्ला, डॉक्टर पी. एल. चंद्राकर रोहित लहरे टीम लीडर किशोर राजपूत दीपेश गोरहा करुणा यादव ने किया।  महाविद्यालय प्रशासन के शासी निकाय के अध्यक्ष पंडित संजय दुबे और प्रभारी प्राचार्य डॉ संजय सिंह ने सफल आयोजन के लिए शुभकामनाएं प्रदान किया। एनएसएस इकाई ने इस दौहान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी किया।

Tags:,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *