देर रात्रि तक स्ट्रांग रूम में कैद प्रत्याशियों की किस्मत..11 दिसम्बर को भाग्य का फैसला…एक एक दलों से मिले दयानन्द

बिलासपुर— सख्त पहरे में दूर दराज बूथों से देर रात तक मतदान दल चुनाव कराने के बाद पहुंचत रहे। इस दौरान जिला निर्वाचन अमला पूरे समय तक मौके पर मौजूद रहा। गिनती के बाद एक एक कर ईव्हीएम और व्हीव्हीपेट मशीनों को जमा किया गया। स्टेशनरी का हिसाब किताब दिया। एक एक चुनावा सामाग्रियों को जमा कराया गया। पूरे समय तक जिला निर्वाचन अधिकारी पी.दयानन्द मौजूद रहे। बारी बारी से मतदान दलों से सम्पर्क करते नजर आए। जिला निर्वाचन अधिकारी की मौजूदगी में ईव्हीएम और व्हीव्हीपेट मशीनों को स्ट्रांग रूम जमा किया गया। अब मशीनें 11 दिसम्बर को कड़ी सुरक्षा के बीच गिनती के लिए बाहर निकलेंगी। फिलहाल सभी मशीनें 20 दिनों तक कड़ी सुरक्षा के बीच इंंजीनियरिंग कालेज के स्ट्रांग रूम में निगहबानी में रहेंगी।
              20 नवम्बर को 1782 और चार सहायक बूथों में शांतिपूर्ण मतदान कार्य के बाद मतदान दल कड़ी सुरक्षा के बीच देर रात तक लौटते रहे। देर रात्रि तक इजीनियरिंग कालेज पहुंचकर मतदान कर्मियों ने जिला निर्वाचन अधिकारी की मौजूदगी में मशीनों को जमा किया। कोनी स्थित शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज के स्ट्रांग रूम में मशीनों को भारी सुरक्षा के बीच सुरक्षित रखा गया।
                   अंतिम मतदान कर्मियों के पहुंचने तक जिला निर्वाचन अधिकारी पी दयानंद समेत सभी अधिकारी देर रात तक मौजूद रहे। इस दौरान पी.दयानन्द एक बूथ अधिकारियों से सम्पर्क किया। किसी के देरी से पहुंचने के बार में जानकारी लेते रहे। सभी मतदान दलों के पहुंचने के पी.दयानन्द ने संतोष और खुशी जाहिर किया।
             जांच पडताल के बाद जिला निर्वाचन अधिकारी पी दयानन्द के सामने ही ईवीएम को स्ट्रांग रूम मे रखा गया। मशीनों की सुरक्षा के लिए पुख्ता इंतजाम किए गये।
दो अधिकारियों पर कार्रवाई
                 जिला निर्वाचन अधिकारी के अनुसार मरवाही विधानसभा क्षेत्र के सेमरा में एक पीठासीन अधिकारी  सुरेन्द्र कुमार और धनौली में पी-3 अधिकारी कमल किशोर तिवारी को शिकायत के बाद दोपहर को निर्वाचन कार्य से अलग किया गया। शिकायत मिली थी कि दोनों ने चुनाव कार्य के दौरान किसी पार्टी विशेष के समर्थन मतदाताओं को प्रभावित करने का प्रयास किया है। चुनाव आयोग के निर्देश पर दोनों को तत्काल चुनाव से हटाया गया। तत्काल जांच के भी आदेश दिये गए।
विधानसभा वार मशीनें जमा

                देर रात्रि तक ईवीएम मशीनों को विधानसभावार अलग-अलग  स्ट्रांग रूम में रखा गया।  मशीनों की सुरक्षा के लिए सशस्त्र बल तैनात कर दिया गया है। मशीनों को सबी पांच राज्यों के चुनाव के बाद 11 दिसंबर को मतगणना के लिए बाहर निकाली जाएंगी। मतों की गिनती राजनैतिक संगठन और प्रतिनिधियों के सामने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था में होगी।

मुंगेली से लायी जाएंगी मशीनें

जिला निर्वाचन कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार बिल्हा विधानसभा क्षेत्र के कुछ हिस्से मुंगेली जिले में हैं। ईवीएम मशीनों मुंगेली के स्ट्रांग रूम में रखा गया है। मशीनों को मतगणना के पहले बिलासपुर लाया जाएगा। मशीनों को मिलाकर पूरी गिनती बिलासपुर में होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *