विशेष है बिलासपुर का व्यापार मेला,समापन कार्यक्रम में रहेंगे सीएम-हरीश केडिया

IMG20170111154025बिलासपुर— बिलासपुर राष्ट्रीय व्यापार मेले की पहचान अब तीज त्योहार के रूप में होती है। हर साल लोगों का मेले का बेसब्री से इंतजार रहता है। जो लेगो बिलासपुर साल में एक या दो बार शहर आते हैं वे लोग अपना टाइम टेबल राष्ट्रीय व्यापार मेले को ध्यान में रखकर तैयार करते हैं। पत्रकारों से चर्चा करते हुए छत्तीसगढ़ लघु एवं सहायक उद्योग संघ अध्यक्ष हरीश केडिया ने बताया कि हम सबने कुछ ऐसा प्रयास किया कि राज्य पोषित मेलों की चमक फीकी कर दी। अब कोई भी व्यक्ति ग्वालियर या इसी तरह के अन्य मेलों की चर्चा नहीं करता है। लेकिन बिलासपुर मेले का इंतजार सभी को रहता है।

                                        पत्रकारों से चर्चा करते हुए हरीश केडिया ने बताया कि मेले की शुरूआत दस टेबल से साल 1990 में हुई। छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद अब तक राष्ट्रीय रोजगार मेले का लगातार 17 वां भव्य आयोजन व्यापार विहार क्षेत्र में किया जा रहा है। समय के साथ जगह छोटी जरूर हुई है लेकिन हौसला अब भी पहले की ही तरह है। संसाधन और सुविधा के बाद राष्ट्रीय व्यापार मेला का स्थान जरूर बदलेगा। लेकिन व्यापार मेले की पहचान कभी कम नहीं होगी।

               हरीश केडिया ने बताया कि मध्यप्रदेश के समय ग्वालियर व्यापार मेले का बोलबाला था। हमें और हमारे साथियों में IMG20170111154406कुछ इसी तरह का आयोजन बिलासपुर में करने का निश्चय किया। केडिया ने बताया कि ग्वालियर व्यापार मेले को राज्य के सहायता से लगाया जाता है। शासन से आयोजन को कई प्रकार की छूट मिलती है। लेकिन राष्ट्रीय व्यापार मेले का साथ ऐसा कुछ नहीं है। दरअसल हमने मेले को किसी वर्ग विशेष का ठप्पा नहीं लगने दिया। बिलासपुर राष्ट्रीय व्यापार मेले पर जितना हक बड़े लोगों का है उतना ही अधिकार आम लोगों का भी है। पांच दिवसीय मेले में देश दुनिया से लाखों लोग मेले का आनंद लेने हर साल पहुंचते हैं।

                                      लघु एवं सहायक उद्योग संघ के अध्यक्ष ने बताया कि हर साल की तरह इस साल भी मेले में पांच सौ स्टाल लगाये जाएंगे। सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम होगा। आयोजनकर्ताओं की तरफ से रात को भी सुरक्षा का व्यापक इंतजाम किया गया है। केडिया ने बताया कि नोटबंदी का मेले पर कोई असर नहीं पड़ने वाला है। नोटबंदी के बाद दो महीन तक व्यापार जगत में मंदी आयी है। लेकिन अब धीरे धीरे बाजार में नोट आने लगे हैं। खरीदार के साथ व्यापारियों में उत्साह है। उन्होने बताया कि पीओएस और आनलाइन खरीददारी होगी। केडिया ने बताया कि सौ प्रतिशत कैशलेस खरीददारी दुनिया के किसी देश में नहीं है। हां लेसकैश खरीदारी जरूर होगी।फिलहाल मांंग के अनुसार पीओएस की सप्लाई भी नहीं है।

                                  पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए हरीश केडिया ने कहा कि राष्ट्रीय रोजगार मेला के दौरान कमेटी स्वच्छता अभियान और प्लास्टिक सामानों के प्रयोग पर विशेष नजर रखेगी। उन्होने सवालों का जवाब देते हुए बताया कि राष्ट्रीय व्यापार मेला का मुख्य उद्देश्य क्षेत्रीय और प्रादेशिक पहचान के साथ-साथ स्वस्थ्य मनोरंजन के बीच ज्ञान लेना है। केडिया ने बताया कि मेले में कुछ इस तरह की व्यवस्था की गयी है कि अमीर हो या गरीब … सभी लोगों को अपनापन का अहसास होगा। परिवार एक एक सदस्य दिन भर मेले में रहकर घर का आनंद का अनुभव करेगा। मनोरंजन से लेकर खाने की व्यवस्था तक मेले में होगी।

            कार्यक्रम की जानकारी देते हुए केडिया ने बताया कि मेले में बच्चों और बूढों सभी के मनोरंजन का ध्यान रखा गया है। रंगोली,नाटक,मंचन,काव्यपाठ से लेकर सभी प्रकार के मनोरंजन से जुड़े कार्यक्रम देखने को मिलेगा। पत्रकारों को बताया कि बिलासपुर के प्रतिभावान बच्चों,कलाकारों का सम्मान किया जाएगा।

व्यापार मेला कार्यक्रम

  IMG20170111153754                 हरीश केडिया ने बताया कि राष्ट्रीय रोजगार मेला औपचारिक उद्घाटन शुक्रवार 13 जनवरी को होगा। 17 जनवरी को समापन कार्यक्रम में प्रदेश के मुखिया डॉ.रमन सिंह,निकाय मंत्री अमर अग्रवाल समेत गणमान्य लोग शिरकत करेंगे।

                                  राष्ट्रीय व्यापार मेला के पहले दिन 13 जनवरी को नगर निगम पार्षद और एल्डरमैन का सम्मान किया जाएगा। हंसो हंसाओं कार्यक्रम के अलावा हास्य काव्य गोष्ठी का आयोजन किया जाएगा। 14 जनवरी को सायकल रैली और छात्र छात्राएं सामुहिक नृत्य पेश करेंगी। 15 जनवरी को रंगोली,स्वस्थ्य शिशु,मेंहदी प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। गेड़ी लोकनृत्य,सम्मान समारोह के अलावा सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किया जाएगा।

                   16 जनवरी को क्रेता विक्रेता सम्मेलन डांस प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा।  17 जनवरी को समापन कार्यक्रम में प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंंह,निकाय मंत्री अमर अग्रवाल,विधानसभा उपाध्यक्ष बद्रीधर दीवान,भाजपा प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक,सांसद लखनलाल साहू,छगन मुंदड़ा,किशोर राय शिरकत करेंगे।

                  17 जनवरी को ही आर्ट आफ लिविंग सत्संग कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा।

                                       1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *