मेरा बिलासपुर

दैवभो कर्माचारियों ने किया घेराव

IMG_20150713_133638बिलासपुर— मरवाही, पेन्ड्रा, गौरेला, मस्तूरी ब्लाक के दो सौ से अधिक दैनिक वेतन भोगियों ने आज अपनी मांग को लेकर कलेक्टर कार्यालय का घेराव किया। आदिवासी कल्याण विभाग के विभिन्न संस्थानों में कार्यरत दैनिक वेतन भोगियों का आरोप है कि 9 सौ साल से अधिक समय होने के बाद भी प्रशासन ने आज तक उनको नियमित नहीं किया है।

                   जिले के दूर दराज क्षेत्र से अपनी शिकायत को लेकर कलेक्टर कार्यालय पहुंचे पीड़ितों ने बताया कि उन्हें पिछले 9 साल से मात्र पांच हजार वेतन मिल रहा है। शासन के आदेशानुसार तीन साल बाद उनका नियमितिकरण किया जाना था। लेकिन आज तक बिलासारपुर के किसी दैनिक भोगी कर्मचारी को नियमित नहीं किया गया। दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी ने बताया कि युक्तियुक्तकरण के बाद उन पर अब नौकरी जाने की भी चिंता सताने लगी है।

                 कलेक्टर सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी से मुलाकात कर दल के नेता ने बताया कि एक गरीब परिवार को मात्र पांच हजार में पेट पालना मुश्किल हो गया है। शासन के आदेशानुसार हमलोगों का तीन साल बाद नियमित किया जाना था। आज 9 साल बाद भी नियमित नहीं किया गया है। सभी छोटे पद पर भृत्य,चपरासी,जलभराव और फर्राश का काम करते हैं।

                     गौरेला स्कूल में सफाई कर्माचारी का काम करने वाले राकेश कुमार डहरिया ने बताया कि वह 9 साल से काम कर रहा है। युक्तियुक्तकरण के बाद उसकी नौकरी खतरे में है। शासन ने अभी तक नियमित नहीं किया है। पेन्ड्रा स्कूल में पुरूषोत्तम प्रजापति पानी पिलाने का काम करता है। उसने बताया कि कोंडागांव समेत प्रदेश के लगभग सभी जिलों के कलेक्टर दर पर काम करने वालों को नियमित कर दिया गया है। हम कलेक्टर से गुहार लगाए हैं कि उन्हें भी नियमित किया जाए। दिलहरण सोनवानी मरवाही कन्याशाला में भृत्य का काम करता है। उसने बताया कि कलेक्टर ने हमें आश्वासन दिया है कि आप लोगों की मांग को शासन के सामने रखा जाएगा। सरकार जो भी निर्णय लेगी उसका पालन किया जाएगा।

सवा मिनट में होगा राजगीत का गायन..सामान्य प्रशासन का आदेश.. जिला प्रमुखों के पास पहुंचा पत्र

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS