दो साल बाद लौटी घर की मुस्कान

IMG-20160203-WA0010बिलासपुर—मानसिक रुप से विक्षप्त एक नाबालिग अचानक घर से खेलते-खेलते गायब हो गयी। बाद में मालूम हुआ कि नाबालिग बच्ची राजस्थान के भरतपुर जिले में है। सिविल लाइन पुलिस टीम ने बच्ची को  भरतपुर जाकर बच्ची को अपनी अभिरक्षा ले लिया है। आज नाबालिग बच्ची को परिजनो को सुपुर्द कर दिया।

                पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार एडिश्लनल एसपी प्रशांत कत्लम के पास भरतपुर के अपना आश्रम से फोन आया कि उन्हे जोधपुर में एक बच्ची मिली है। बच्ची अपना नाम निशा विश्वकर्मा और बिलासपुर की रहने वाली बाता रही है। सूचना मिलते ही अतिरिक्त पुलिस कप्तान प्रशांत कत्लम ने सभी थानो में गुमशुदगी तलाशने का आदेश दिया।

                           गुम इंसानों की फाइल खंगालने के बाद जानकारी मिली कि सिविल लाइन थाने में शांति नगर टेठाडबरी की एक बच्ची 14 जनवरी 2014 से गुम है। इसके बाद प्रशांत कतलम के निर्देश पर गुम बच्ची के पिता को बुलाकर जानकारी ली गई। पुलिस गुमबच्ची निशा के पिता लालजी विश्वकर्मा के साथ  जोधपुर आपना आश्रम पहुची। काफी प्रयास के बाद मालूम हुआ कि नाबालिग बच्ची भरतपुर के अपना आश्रम में सुरक्षित है।

                    पुलिस जवान कन्हैया लाल लालजी विश्वकर्मा के साथ भरतपुर रवाना हुआ। आश्रम में संबंधित दस्तावेज सौंपकर नाबालिग को आजाद कराया। आज नाबालिग बच्ची के साथ बिलासपुर पहुची पुलिस टीम  ने थाने में लिखा पढी के बाद बच्ची को परिजनो को सौंप दिया है। आपरेशन मुस्कान 2 मे बिलासपुर पुलिस को बहुत बड़ी सफलता मिली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *