नतीजे खराब आए तो शिक्षक पर गिरेगी गाज, कलेक्टर ने जारी किया फरमान

शिक्षक,गैर शिक्षक,पदों ,भर्ती,पात्र,अपात्रों, सूची जारी,दावा आपत्ति ,समय,राजनादगांव,छत्तीसगढ़राजनांदगांव-कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने किसी भी विषय एवं कक्षा के परीक्षा परिणाम खराब होने पर संबंधित शिक्षक की जिम्मेदारी तय करते हुए उनके विरूद्ध कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर देश के आकांक्षी जिले में शामिल राजनांदगांव में नीति आयोग द्वारा निर्धारित बिन्दुओं की प्रगति के संबंध में 26 जुलाई को कलेक्टोरेट सभाकक्ष में आयोजित समीक्षा बैठक में जिला शिक्षा अधिकारी को उक्ताशय के निर्देश दिए हैं। बैठक में श्री मौर्य ने जिले में नीति आयोग द्वारा निर्धारित बिन्दुओं की प्रगति हेतु विभिन्न विभागों द्वारा किए जा रहे कार्यों की विस्तृत समीक्षा की। बैठक में जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी तनुजा सलाम, अपर कलेक्टर एसएन मोटवानी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप्प ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

बैठक में श्री मौर्य ने नीति आयोग द्वारा निर्धारित मापदण्डों के अनुसार शिक्षा विभाग द्वारा किए जा रहे कार्यों की विस्तृत समीक्षा की। उन्होंने कहा कि शिक्षा गुणवत्ता में सुधार अत्यंत आवश्यक है। इसके लिए सभी शिक्षकों को समय पर विद्यालय में पहुंचकर संपूर्ण शाला अवधि में अपने दायित्वों का निष्ठा पूर्वक निर्वहन करना अत्यंत आवश्यक है। कलेक्टर ने बच्चों के परीक्षा में अनुत्तीर्ण हो जाने पर संबंधित शिक्षक एवं अपने कार्य में लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई करने को कहा है। उन्होंने इन शिक्षकों के विरूद्ध वेतन वृद्धि रोकने की कार्रवाई एवं अपने कर्तव्य में आद्तन लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों के विरूद्ध बर्खास्तगी की कार्रवाई करने के निर्देश जिला शिक्षा अधिकारी को दिए।

यह भी पढे-हेडमास्टर और टीचर सस्पेंड, सर्पदंश से स्कूली बच्चों की मौत पर लापरवाही का मामला

उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी को शालाओं का नियमित निरीक्षण करने एवं गणित तथा अंग्रेजी विषय के शिक्षकों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करने को कहा है। बैठक में कलेक्टर ने स्वास्थ्य विभाग के कार्यों की प्रगति की भी समीक्षा की। इसके अंतर्गत उन्होंने गर्भवती महिलाओं का शत-प्रतिशत टीकाकरण, स्वास्थ्य परीक्षण एवं संस्थागत प्रसव सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए है।

कलेक्टर ने जिले में बच्चों के कुपोषण दूर करने हेतु किए जा रहे उपायों की जानकारी लेते हुए कुपोषित बच्चों को सामान्य श्रेणी में लाने हेतु योजना बनाकर कार्य करने के निर्देश दिए। उन्होंने इन बच्चों को अतिरिक्त भोजन के अलावा पौष्ठिक आहार भी प्रदान करने के निर्देश महिला एवं बाल विकास विभाग तथा स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी को दिए।कलेक्टर ने विद्युत विभाग के कार्यों की समीक्षा करते हुए विभागीय अधिकारियों को पूरे समय मुस्तैद रहकर जिले में निर्बाध रूप से विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करने को कहा। बैठक में कलेक्टर ने संबंधित विभाग के अधिकारियों को जिले में नीति आयोग के निर्धारित बिन्दुओं की प्रगति सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *