नवें संवत पर दयालबंद गुरुद्वारा में समागम, गुरू प्रेमियों और समाज के सहयोगियों का सम्मान

बिलासपुर। गुरुद्वारा दयालबंद में नवे संवत के आगमन की खुशी में विशेष समागम रखा गया । जिसमें समाज के सहयोगियों – गुरु प्रेमियों का सम्मान किया गया ।

नवें संवत के आगमन की खुशी में आयोजित विशेष समागम में बिटिया बनीत कौर गांधी का विशेष सम्मान किया गया । जिसे कीर्तन सोहिला साहिब का पाठ कंठस्थ है और वह उपस्थित संगत के बीच बड़े ही धैर्य के साथ शुद्ध पाठ करती है। कम उम्र में बिटिया को गुरुघर से जोड़ने और गुरु वाणी से जोड़ने के लिए बनित कौर गांधी और उनकी दादी जगमीत कौर गांधी को स्मृति चिन्ह व सिरोपाओ देकर सम्मानित किया गया। ताकि समाज के लोग भी इस बिटिया से प्रेरणा लें ।

गुरुद्वारा कमेटी को पिछले 5 वर्षों से लगातार हर कार्य में सहयोग देने के लिए चरणजीत सिंह गंभीर को सिरोपाओ एवं स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया । साथ ही राजा सलामतामी को सीक्खी स्वरूप सजाने ,प्रदीप क्षेत्रपाल व हर्ष परवानी को प्रतिदिन अमृत वेले 4:15 बजे बाबा जी के प्रकाश के समय पहुंचने , बाबा जी के प्रकाश में सेवा करने हेतु ज्ञानी मान सिंह और ग्रंथि गुरुद्वारा दयालबंद द्वारा शाल देकर सम्मानित किया गया ।

इस अवसर पर 27 खोली गुरुद्वारा के रागी सिंघ, हरि सिंघ, गोंड़पारा गुरुद्वारा के रागी सिंघ, राजवीर सिंघ ,तार बाहर गुरुद्वारा के भाई अमनदीप सिंघ, सिंधी गुरुद्वारा जरहाभाटा के रागी , मजिंदर सिंह तान को सिरोपाओ देकर सम्मानित किया गया। इस समागम में हजूरी रागी दयालबंद भाई कुलदीप सिंघ, हेड ग्रंथी ज्ञानी मान सिंह ने भी समूह साध संगत को कथा कीर्तन से निहाल किया।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...