हमार छ्त्तीसगढ़

नारायणपुर जिले के सभी धान उपार्जन केन्द्रों में पक्का चबूतरा निर्माण अन्तिम दौर में,बेमौसम बारिश से खरीदा गया धान नहीं होगा खराब

नारायणपुर।समर्थन मूल्य पर किसानों से खरीदे गऐ धान को सुरक्षित और बेहतर रख-रखाब के लिए प्रदेश से उर्पाजन केन्द्रों में पक्के चबूतरो का निर्माण किया जा रहा है। अब बेमौसम बारिश होने से खरीदा गया धान खराब नहीं होगा। पहले बिना चबूतरे के जमीन पर रखें धान को बारिश में भीगने और खराब होने का डर सदैव बना रहता था। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस बात को समझा और प्रदेश के सभी उर्पाजन केन्द्रों में पक्का चबूतरा निर्माण कराने की पहल की। जमीन की अपेक्षा चबूतरा पर रखे धान ज्यादा सुरक्षित रहेगा। वहीं उन्हें अच्छे कैप कवर से भी ढका जा सकेगा।सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप न्यूज ग्रुप से जुड़ने यहां क्लिक कीजिए

नारायणपुर जिले के सभी आठ उर्पाजन केन्द्रों में पक्का चबूतरा निर्माण का काम अन्तिम दौर में है। उर्पाजन केन्द्रों में चबूतरा बन जाने से आगामी धान खरीदी सीजन में किसानों का धान बेमौसम बारिश के कारण खराब नहीं होगा। वर्तमान में खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में नारायणपुर जिले के आठ उपार्जन केन्द्रों एड़का, ओरछा, छोटेडोगर, धौड़ाई, नारायणपुर, बिंजली, झारा और बेनुर में धान की अनुमानित 10274 मैट्रिक टन लक्ष्य निर्धारित था। लक्ष्य से अधिक धान की खरीदी की गई।

चुनाव आयोग का ऐलान-17 जुलाई को होगा राष्ट्रपति चुनाव
Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS