नियम तोड़ने वालों के घर पहुंचने लगी रशीद

Join WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

IMG-20160522-WA0127 बिलासपुर—जिसने नागपुर समेत अन्य महानगरों की यातायात व्यवस्था को बिलासपुर में देखने का ख्वाब देखा होगा…उनकी तमन्ना अब जल्द ही पूरी होने वाली है।  यातायात नियम तोड़ने वालों के घर पुलिस का दो सौ रूपए वाला रशीद पहुंचने लगा है। बिना हेलमेट फरार्टे भरने वालो और चौराहों की लाल पीली,हरी बत्तियों को फालतू समझने का खामियाजा अब वाहन चालक को भुगतना ही होगा। लोगों की सिफारिश और शिकायतों से परेशान पुलिस प्रशासन ने नियम तोड़ने वालों के घर रशीद के साथ फुटेज की कापी भेजना शुरू कर दिया है। पुलिस कप्तान के अनुसार सीसीटीवी पर लोगों की गतिविधियों को लगातार मानिटरिंग की जा रही है। नियमों तोड़ने वालों के घर प्रमाण समेत दो सौ रूपए का रशीद भी भेजा जा रहा है।

                                                    पुलिस की आंख में धूल झोंकना बेशक आसान हो लेकिन चौराहों पर तैनात सीसीटीवी कैंमरे को धोखा देना मुश्किल है। शहर की यातायात व्यवस्था को चुस्त दुरूस्त बनाने शहर के मुख्य 6 चौराहों पर सीसीटीवी को तैैनात कर दिया गया है। अब तो लोगों के घर रशीद भी पहुंचना शुरू हो गया है। कोई व्यक्ती बिना हेलमेट लगाये मोटर सायकल से फर्राटे भर रहा है या ट्रैफिक सिग्नल को दरकिनार करता है तो उसके खिलाफ पुलिस प्रशासन चालानी कार्रवाई के साथ सीसीटीवी फुटेज का जेराक्स भी भेज रहा है। जिसमें चालक की गलतियां,समय और गतिविधियों की जानकारी का भी उल्लेख है।

                                        पुलिस कप्तान अभिषेक पाठक ने बताया कि पुलिस प्रशासन और नगर निंगम के संयुक्त प्रयास से शहर के 6 प्रमुख चौराहों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गये हैं। सभी कैमरे उच्च स्तर के हैं। कैमरे को कंट्रोल रूम से हैंडल किया जा रहा है। कैमरे के क्षेत्र से गुजरने वाले सभी लोगों की जानकारी कंट्रोल रूम में पहुंचती है।कै मरे के जरिए ट्रैफिक नियमों को तोड़ने वाले या अन्य असामाजिक गतिविधियों को अंजाम देने वालों पर पुलिस की नजर होती है। जल्द ही अन्य प्रमुख चौक चौराहों पर भी सीसीटीवी की नजर होगी।   IMG-20160522-WA0126

पदोन्नत में आरक्षण हस्तक्षेप याचिका खारिज..हाईकोर्ट का आदेश..नियमित और कानून के अनुसार हो पदोन्नत
READ

                                      पुलिस कप्तान अभिषेक पाठक ने बताया कि ऐसे वाहन चालक जिन्होने यातायात नियमों का उल्लघंन किया है उनकी फोटो और गाड़ी नम्बर की जानकारी क्षेत्रिय परिवहन कार्यालय से निकलवाया जा रहा है।  नियम तोड़ने वालों के घर पत्र और सीसीटीवी का जेराक्स भेजा जा रहा है। विभाग को इसमें सफलता भी मिल रही है। हमने एक महीने के भीतर170 वाहन मालिको को 200 रूपयो की चलानी रशीद के साथ फोटो भेजा है। रशीद में स्पष्ट बताया गया है कि यदि नियत समय में चालक अपनी गाड़ियों को दो सौ रूपए देकर नहीं छुड़वाता है तो मामले को कोर्ट के सुपुर्द कर दिया जाएगा।

                     जानकारी के अनुसार अभी तक पुलिस कप्तान के निर्देश पर 82 लोगों को चालान भेजा चुका है।  72 मामलों में घरो की पता साजी की जा रही है। एक प्रकरण को न्यायालय भेजने की तैयारी चल रही है।  8 गाड़ी मालिको की पहचान कर चालान भेजा चुका है। दो मामले तामिल की सूची में शामिल हैं। घरों में पहुंच रहे रशीद को लेकर परिवार के लोग परेशान हैं। कुछ लोगों ने तो बच्चों को मोटर सायकल चलाने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

सीसीटीवी से कार्य आसान

               पुलिस कप्तान अभिषेक पाठक ने बताया कि सीसीटीवी ने हमारा काम आसान कर दिया है। यातायात नियम तोड़ने वाले के साथ असामाजिक तत्वों पर हमारी पहुंच हो रही है। शहर के महाराणा प्रताप चौक, सत्यम चौक, मंगला चौक और इंदू चौक,पुराना बस स्टैण्ड और नेहरू चौक में सुरक्षा के साथ ही यातायात व्यवस्था को सुचारू रखने सीसीटीवी कैमरे लगाये गये है। गतिविधियों की निगरानी…पुलिस कंट्रोल रूम में की जा रही है। नियम तोडने वालों की पहचान कर उनके घर सीसीटीवी की जानकारी और दो सौ रूपए रशीद भेजा जा रहा है।

लाश के साथ परिजनों का प्रदर्शन..अवैध परिवन से युवक की मौत
READ

                           अभिषेक पाठक ने बताया कि सीसीटीवी के होने से लगातार मिल रही शिकायतों को अब दूर कर लिया गया है। पुलिस जवान हो या सामान्य इंसान सबकी जानकारी लगातार मिल रही है। अब जवानों को बिना हेलमेट फर्राटा भरने वालों के पीछ भागने की जरूरत नहीं है। शिकायते भी आनी बंद हो गयी हैं। सीसीटीवी खंगालने के बाद जो दोषी पाया जा रहा है उन्हें पत्र भेजा जा रहा है।

                 पुलिस कप्तान ने बताया कि एक दिन पहले पुराने स्टैण्ड में आटो में एक यात्री का बैग छूट गया। जिसमें दस हजार रूपए रखें हुए थे। सीसीटीवी की मदद से कुछ घंटों के ही अन्दर दस हजार रूपए मिल गए। जैसे ही आटो चालक को पता चला कि उसकी गांड़ी की पहचान हो गयी है उसने थाने पहुंचकर रूपयों से भरा बैग वापस कर दिया। पाठक ने बताया कि जल्द ही बिलासपुर की जनता ट्रैफिक नियमों का महत्व समझने लगेगी। एक दिन हमारा शहर भी अन्य बड़े शहरों की तरह ट्रैफिक नियमों का पालन करता दिखायी देगा।