निराशा..नशा का सबसे बड़ा कारण.. कुलपति ने कहा..युवाओं को जगाना होगा अंतर्मन की शक्ति

बिलासपुर— नशीली दवाओं का दुरूपयोग एवं रोकथाम को लेकर शासकीय जे.पी. वर्मा स्नातकोत्तर कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यक्रम  में मुख्य अतिथि अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय कुलपति प्रो. गौरीदत्त शर्मा और अध्यक्षता कर रहे राज्य एनएसएस अधिकारी डाॅ. समरेन्द्र सिंह विशेष रूप से मौजूद थे। कार्यक्रम में  बतौर विशिष्ट अतिथि डाॅ. विमल पटेल और डाॅ. मनोज सिन्हा उपस्थित थे। महाविद्यालय की प्राचार्य डाॅ. ज्योतिरानी सिंह ने स्वागत भाषण दिया।

                मुख्य अतिथि प्रो. गौरीदत्त शर्मा ने छात्रों को संबोधित किया। शर्मा ने कहा प्रत्येक मनुष्य का अपना लक्ष्य होता है। जब वह लक्ष्य से दूर होता है..निराशा का भाव उत्पन्न होता है और वह व्यसन का शिकार हो जाता है। राष्ट्रीय सेवा योजना के युवाओं को विवेकानंद के आदर्श एवं उनके बताये मार्ग पर चलते हुए अपने अंतर्मन की शक्ति को जागृत करना होगा।

             कार्यक्रम के अध्यक्ष समरेन्द्र सिंह ने राष्ट्रीय सेवा योजना की युवा शक्ति को राष्ट्रशक्ति बताया। उन्होने कहा कि एन.एस.एस. में आदर्श युवा निर्माण पर बल दिया जाता है। कार्यक्रम के तकनीकी सत्र में डाॅ. सुजीत नायक मनोचिकित्सक सिम्स और डाॅ. बी.के. बनर्जी मनोरोग विशेषज्ञ राज्य मानसिक चिकित्सालय सेन्दरी, ने प्रोजेक्टर और स्लाईड के माध्यम से छत्तीसगढ़ केे वर्तमान परिप्रेक्ष्य में नशे के शिकार युवाओं का आंकड़ा पेश किया। चिकित्सकों ने इस दौरान प्रदेश में प्रचलित विभिन्न प्रकार के मादक पदार्थो से होने वाली बीमारियों पर विस्तार से प्रकाश डाला। बीमारियों के निराकरण और उपचार की जानकारी भी दी।

           चिकित्सकों ने युवाओं को नशे से दूर रहने के टिप्स दिए। प्रजापिता ब्रम्हाकुमारी मंजू बहन ने आध्यात्म के माध्यम से इन्द्रियों पर नियंत्रण की जानकारी दी। ध्यान और योग से मानसिक, आत्मिक और व्यवहारिक शुद्धि के बारे में बताया। राधिका आडवाणी ने योग के माध्यम से नशा मुक्ति पर व्याख्यान पेश किया।

           कार्यक्रम में शहर के विभिन्न महाविद्यालयों के राष्ट्रीय सेवा योजना के छात्र, प्राध्यापक और कर्मचारीगण उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. संजय कुमार तिवारी जिला संगठक, बिलासपुर ने किया। आभार प्रदर्शन डाॅ. के.के. सिन्हा ने किया।   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *