मेरा बिलासपुर

निर्मल ग्राम पंचायत सचिव पर फूटा जनप्रतिनिधियों का गुस्सा.. कलेक्टर और सीईओ तक पहुंची शिकायत.. योजना में किया लाखों का भ्रष्टाचार

 
बिलासपुर—तखतपुर जनपद पंचायत के निर्मल गांव देवरीखुर्द के पंच, उपसरपंच, सरपंच समेत ग्रामीणों ने जिला पंचायत सीईओ से लिखित शिकायत की है। जनप्रतिनिधियों ने बताया कि सचिव की मनमानी के चलते गांव का विकास रूक गया है। शासकीय राशि का दुरूपयोग किया जा रहा है। सचिव ने निर्मल गांव को गंदा गांव बनाकर रख दिया है। ग्रामीणों ने सचिव के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
 
                               तखतपुर जनपद पंचायत के निर्मल ग्राम देवरीखुर्द के जनप्रतिनिधि और ग्रामीणों ने एक दिन पहले जिला पंचायत सीईओ से सचिव के खिलाफ शिकायत की है। ग्रामीणों ने सचिव पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। पंच सरपचं ने सीईओ को बताया कि ग्राम पंचायत सचिव संतोष कौशिक नियम खिलाफ मनमना कर रहा है। पंचायत मदों में अनियमितता करते हुए शासकीय राशि का दुरुपयोग कर रहा है।
 
         सरपंच, उपसरपंच और पंचों ने आरोप लगाया कि सचिव संतोष कौशिक तेरहवे और चौदहवाँ वित्त में भारी गड़ब़ड़ी किया है। अन्य मदों में भी भ्रष्टाचार किया है। हिसाब मांगने के बावजूद आय – व्यय का व्यौरा नहीं दे रहा है। विकास कार्य भी रूक हुआ है। जिसके चलते स्थानीय लोगों में आक्रोश है। जिला पंचायत सीईओ को पंच,सरपंच और उप सरपंच ने बताया कि सचिव संतोष कौशिक हिसाब देने से बचने के लिए पंचायत की बैठक से भी नदारद रहता है।
 
              जनप्रतिनिधियों ने बताया कि संतोष कौशिक पिछले 12 साल से देवरीखुर्द पंचायत में सचिव पद पर पदस्थ हैं । सचिव पर आरोप है कि गांव वालों से राशन कार्ड बनाने से लेकर प्रधानमंत्री  आवास  को पास कराने रूपयों की मांंग करता है।
 
             सचिव ने वर्ष 2014 से 2019 तक तेरहवें और चौदहवाँ वित्त और स्वच्छ भारत मिशन के तहत गौठान निर्माण समेत शासकीय योजनाओं की मद का दुरुपयोग किया है। संतोष कौशिक ने भारी भ्रष्टाचार कर शासन को चूना लगाया है । ग्राम सचिव की मनमानी और कार्य में लापरवाही को देखते हुए ग्राम पंचायत देवरीखुर्द से जल्द से जल्द हटाया जाए।
 
             सरपंच मणि शंकर सारथी, उपसरपंच, एवं पंचगण रविन्द्र शर्मा,  सीता राम कौशिक, गब्बर यादव,  यामवतार कौशिक, लक्षण यादव, करन मानिकपुरी,मंतू यादव , शितल मरावी, जय महराज, परदेशी यादव सहित ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर और  जिला पंचायत सीईओ को लिखित शिकायत कर कहा कि सचिव के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करें। ।

Chhattisgarh-953 पॉजिटिव, सर्वाधिक इस जिले में 128
Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS